Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2021 · 1 min read

बुढ़ापा दबे पांव आएगा !

आज जो चेहरा चमक रहा,
आभा से इतना दमक रहा।
वाणी में भी जो ये प्रभाव है,
विश्वास से भरा जो भाव है।

ये जो जोश है जीवन में,
आत्मविश्वास है अंतर्मन में।
छणिक है ये, सादा नहीं रहेगा,
समय का चक्र जो चल रहा,
धीरे धीरे सबको बदल रहा।

हम ही बेखबर यहां सोए है,
सपनो में अनायास खोए हैं।
भूल बैठे, सांसों की ये डोर है,
यात्रा इस छोर से उस छोर है।

जैसे जैसे शरीर थकने लगेगा,
रफ्तार भी जीवन की थमेगी।
ऊर्जा हमेशा ऐसी नहीं रहेगी,
छमता भी अपनी रोज़ घटेगी।

सगे संबंधी भी कम हो जायेंगे,
अपने भी स्वार्थ बस सताएंगे।
आंखें भी अनायास नम होंगी
धमनियों में गति भी कम होगी।

जीवन नया रूप तब दिखाएगा,
हर कोई हमें ही समझाएगा।
जो आया इक दिन जाएगा,
बुढ़ापा दबे पांव आएगा।

Language: Hindi
1 Like · 289 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
Sukoon
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
Shashi kala vyas
..........?
..........?
शेखर सिंह
खेत का सांड
खेत का सांड
आनन्द मिश्र
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
छल और फ़रेब करने वालों की कोई जाति नहीं होती,उनका जाति बहिष्
Shweta Soni
कहां से कहां आ गए हम....
कहां से कहां आ गए हम....
Srishty Bansal
2122 1212 22/112
2122 1212 22/112
SZUBAIR KHAN KHAN
"चाँद का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
फितरत अमिट जन एक गहना
फितरत अमिट जन एक गहना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
Hitanshu singh
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
Shubham Pandey (S P)
मन
मन
SATPAL CHAUHAN
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
Dr. Man Mohan Krishna
🙅आज का मैच🙅
🙅आज का मैच🙅
*प्रणय प्रभात*
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Suryakant Dwivedi
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
भाषा और बोली में वहीं अंतर है जितना कि समन्दर और तालाब में ह
Rj Anand Prajapati
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Santosh kumar Miri
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
Ranjeet kumar patre
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
Harminder Kaur
*नशा सरकार का मेरे, तुम्हें आए तो बतलाना (मुक्तक)*
*नशा सरकार का मेरे, तुम्हें आए तो बतलाना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
इश्क़-ए-क़िताब की ये बातें बहुत अज़ीज हैं,
इश्क़-ए-क़िताब की ये बातें बहुत अज़ीज हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
पूर्वार्थ
निलय निकास का नियम अडिग है
निलय निकास का नियम अडिग है
Atul "Krishn"
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
ग़ज़ल -1222 1222 122 मुफाईलुन मुफाईलुन फऊलुन
ग़ज़ल -1222 1222 122 मुफाईलुन मुफाईलुन फऊलुन
Neelam Sharma
2980.*पूर्णिका*
2980.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्त्री
स्त्री
Ajay Mishra
अधमी अंधकार ....
अधमी अंधकार ....
sushil sarna
गिरगिट रंग बदलने लगे हैं
गिरगिट रंग बदलने लगे हैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...