Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2023 · 1 min read

* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*

* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी
सभी का दौर था हर एक राजा था या रानी थी
किसी से पूछ लो जब वृत्त जीवन का हुआ पूरा
सभी की बंद पलकों में, अधूरी कुछ कहानी थी
—————————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा रामपुर (उ. प्र.)
मोबाइल 99976 15451

341 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
यह कलयुग है
यह कलयुग है
gurudeenverma198
*अगर आपको चिंता दूर करनी है तो इसका सबसे आसान तरीका है कि लो
*अगर आपको चिंता दूर करनी है तो इसका सबसे आसान तरीका है कि लो
Shashi kala vyas
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
हिमांशु Kulshrestha
चार दिन की जिंदगानी है यारों,
चार दिन की जिंदगानी है यारों,
Anamika Tiwari 'annpurna '
बुरा नहीं देखेंगे
बुरा नहीं देखेंगे
Sonam Puneet Dubey
"आइडिया"
Dr. Kishan tandon kranti
क्रिकेट का पिच,
क्रिकेट का पिच,
Punam Pande
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सावन बीत गया
सावन बीत गया
Suryakant Dwivedi
जमाना जीतने की ख्वाइश नहीं है मेरी!
जमाना जीतने की ख्वाइश नहीं है मेरी!
Vishal babu (vishu)
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
Vinit kumar
" पीती गरल रही है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
Sumita Mundhra
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
ruby kumari
आजकल के समाज में, लड़कों के सम्मान को उनकी समझदारी से नहीं,
आजकल के समाज में, लड़कों के सम्मान को उनकी समझदारी से नहीं,
पूर्वार्थ
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
गुप्तरत्न
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
दशहरा
दशहरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
प्यार में आलिंगन ही आकर्षण होता हैं।
प्यार में आलिंगन ही आकर्षण होता हैं।
Neeraj Agarwal
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
इंजी. संजय श्रीवास्तव
*Lesser expectations*
*Lesser expectations*
Poonam Matia
*धाम अयोध्या का करूॅं, सदा हृदय से ध्यान (नौ दोहे)*
*धाम अयोध्या का करूॅं, सदा हृदय से ध्यान (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
***कृष्णा ***
***कृष्णा ***
Kavita Chouhan
Many more candles to blow in life. Happy birthday day and ma
Many more candles to blow in life. Happy birthday day and ma
DrLakshman Jha Parimal
एक बार फिर ।
एक बार फिर ।
Dhriti Mishra
कपट
कपट
Sanjay ' शून्य'
3127.*पूर्णिका*
3127.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पाप बढ़ा वसुधा पर भीषण, हस्त कृपाण  कटार  धरो माँ।
पाप बढ़ा वसुधा पर भीषण, हस्त कृपाण कटार धरो माँ।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...