Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

बुंदेली मुकरियां

बुंदेली मुकरियाँ:-

1

मोई आकै प्यास बुझाता |
ठंडै पानू से नहलाता |
हात लगत ही वह देता चल –
ऐ री साजन ? नाँ री नल |

2

बने ठने में हौतइ न्यारा।
गुइयाँ ‌मौखौ लगबै प्यारा।
मेरे सिर का है मणि चूड़ा
ऐ री साजन? नाँ री जूड़ा।।
****

-राजीव नामदेव “राना लिधौरी” टीकमगढ़
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक “अनुश्रुति” त्रैमासिक बुंदेली पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

2 Likes · 1 Comment · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
पिता
पिता
Swami Ganganiya
शब्दों का झंझावत🙏
शब्दों का झंझावत🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
समय को पकड़ो मत,
समय को पकड़ो मत,
Vandna Thakur
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
मेरे वतन मेरे चमन तुझपे हम कुर्बान है
gurudeenverma198
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
Sarfaraz Ahmed Aasee
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
कवि दीपक बवेजा
लम्बा पर सकडा़ सपाट पुल
लम्बा पर सकडा़ सपाट पुल
Seema gupta,Alwar
"" *प्रताप* ""
सुनीलानंद महंत
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
पूर्वार्थ
मजदूर
मजदूर
Harish Chandra Pande
शेष
शेष
Dr.Priya Soni Khare
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
बहें हैं स्वप्न आँखों से अनेकों
सिद्धार्थ गोरखपुरी
3228.*पूर्णिका*
3228.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अफ़सोस
अफ़सोस
Dipak Kumar "Girja"
■ मसखरी
■ मसखरी
*प्रणय प्रभात*
आदतें
आदतें
Sanjay ' शून्य'
हमको बच्चा रहने दो।
हमको बच्चा रहने दो।
Manju Singh
हाथ की लकीरें
हाथ की लकीरें
Mangilal 713
दोस्ती ना कभी बदली है ..न बदलेगी ...बस यहाँ तो लोग ही बदल जा
दोस्ती ना कभी बदली है ..न बदलेगी ...बस यहाँ तो लोग ही बदल जा
DrLakshman Jha Parimal
बाल चुभे तो पत्नी बरसेगी बन गोला/आकर्षण से मार कांच का दिल है भामा
बाल चुभे तो पत्नी बरसेगी बन गोला/आकर्षण से मार कांच का दिल है भामा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
शायर देव मेहरानियां
एक मुलाकात अजनबी से
एक मुलाकात अजनबी से
Mahender Singh
"अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
Keshav kishor Kumar
*प्रकृति-प्रेम*
*प्रकृति-प्रेम*
Dr. Priya Gupta
*सॉंसों में जिसके बसे, दशरथनंदन राम (पॉंच दोहे)*
*सॉंसों में जिसके बसे, दशरथनंदन राम (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
वो किताब अब भी जिन्दा है।
वो किताब अब भी जिन्दा है।
दुर्गा प्रसाद नाग
आप किससे प्यार करते हैं?
आप किससे प्यार करते हैं?
Otteri Selvakumar
Loading...