Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 2 min read

बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे

##बुंदेली_दोहा_प्रतियोगिता-152*
#शनिवार #दिनांक १७.०२.२०२४#
प्रदत्त विषय -फँदकत (रूठना)
विशेष टिप्पणी:-
आज कुल प्राप्त 13 दोहों में दो दोहे गड़बड़ है एक दोहे के दूसरे चरण में 10 मात्राएं
व चौथा चरण जगण से प्रारंभ होने से लय हीन हो गया है।
तथा एक दोहे में, पहला चरण में यति 22 है। शेष दोहे ठीक हैं।
शुभकामनाएं सहित
प्राप्त प्रविष्ठियां :-

**बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152*
#शनिवार #दिनांक १७.०२.२०२४#
प्रदत्त विषय -फँदकत (रूठना)

1
सूपनखा फँदकत फिरी,रचौ भौत छल छंद।
नाक कटी चिचया भगी, करौ राम सै दंद।।
***
– एस आर ‘सरल’, टीकमगढ़
2
पैरें घँघरा बेड़नी, फँदकत सबरी रात।
उतै नचाई जो मिली,फँदकत उतै दिखात।।
***
-जयहिन्द सिंह ‘जयहिन्द’पलेरा( टीकमगढ़)
3
फिरबैं फँदकत फूलकैं , फुकना बनै दिखात |
फुआ फुसक मड़वाँ तरैं , फूफा खौं तुचकात ||
***
-सुभाष सिंघई , जतारा
4
सादौ गदियन तौइ पै,फुला लेत मौ वीर।
फदकत फूफा ब्याव में,तनक धरै नहिं धीर।।
***
-प्रदीप खरे मंजुल, टीकमगढ़

5 तृतीय स्थान प्राप्त दोहा-
बड़ी फुआ फँदकत फिरें,बैठीं ड्योढी आन।
फूफा जू को ब्याव में,राखे नइयां मान।।
***
-आशा रिछारिया (निवाड़ी)
6
धनुष टोर दओ राम नें,फँदकत परसुराम ।
फरसा की वे धौंस दै,सुधार दै हम चाम ।।
***
-शोभाराम दाँगी इंदु, नदनवारा

7 द्वितीय स्थान प्राप्त दोहा-
राधा जू सॅंग ब्याव खौं , फॅंदकत नंदकुमार ।
मैया की साड़ी पकर , रोबैं असुआ डार ।।
***
-आशाराम वर्मा “नादान” पृथ्वीपुर

8 प्रथम स्थान प्राप्त दोहा-
फदकत हैं फूफा- फुआ, मामा जीजा बैन।
इन्हैं सँभारो ब्याव भर,नइँतर मिलै न चैन।।
***
– अमर सिंह राय, नौगांव
9
जब खुंसयात घरवारी,तुनक देय बा डोर।
फौरन फँदकत बालमा, छोड़ देय घर दोर।।
***
-रामानन्द पाठक नन्द, नैगुवां
10
दुग‌इ मॅंड़ा फॅंदकत फिरै, शौचालय बनवाव।
सड़क किनारे बालमा,हॅंसी नहीं करवाव।।
***
-भगवान सिंह लोधी “अनुरागी”,हटा
11
फँदकत लौटी माँयँ सें , आइ कटा कें कान ।
सूपनखा नकटी भई , गय भइयन के प्रान ।।
***
-प्रमोद मिश्रा, बल्देवगढ़
12
गोरी तो फॅंदकत फिरे, सुने न कौनउॅं बात।
मन चाओ सब चाउतीं, मन को पैरें खात।।
***
-रामेश्वर प्रसाद गुप्ता इंदु.बडागांव झांसी
13
सब्जी में भव आज तौ, भौतइँ बेजाँ नोंन।
फँदकत फिर रय बाइ नों, बालम हो गय मोंन।।
***
-अंजनी कुमार चतुर्वेदी, निबाड़ी
########

संयोजक/एडमिन- #राजीव_नामदेव ‘#राना_लिधौरी’, टीकमगढ़
आयोजक- #जय_बुंदेली_साहित्य_समूह_टीकमगढ़
#Jai_Bundeli_sahitya_samoh_Tikamgarh
#Rajeev_Namdeo #Rana_lidhorI #Tikamgarh
मोबाइल नंबर-9893520965
&&&&&&&&&&&&&&&&&&

2 Likes · 1 Comment · 65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
*****देव प्रबोधिनी*****
*****देव प्रबोधिनी*****
Kavita Chouhan
भोला-भाला गुड्डा
भोला-भाला गुड्डा
Kanchan Khanna
हर हक़ीक़त को
हर हक़ीक़त को
Dr fauzia Naseem shad
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
श्री राम राज्याभिषेक
श्री राम राज्याभिषेक
नवीन जोशी 'नवल'
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
Ravi Prakash
■ अनियंत्रित बोल और बातों में झोल।।
■ अनियंत्रित बोल और बातों में झोल।।
*Author प्रणय प्रभात*
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
बेटियां! दोपहर की झपकी सी
Manu Vashistha
Deepak Kumar Srivastava
Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam"
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अनंत की ओर _ 1 of 25
अनंत की ओर _ 1 of 25
Kshma Urmila
दोहे- साँप
दोहे- साँप
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2571.पूर्णिका
2571.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मतिभ्रष्ट
मतिभ्रष्ट
Shyam Sundar Subramanian
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
माधव मालती (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
पेड़ पौधे (ताटंक छन्द)
नाथ सोनांचली
टूटे बहुत है हम
टूटे बहुत है हम
The_dk_poetry
प्रेम में कृष्ण का और कृष्ण से प्रेम का अपना अलग ही आनन्द है
प्रेम में कृष्ण का और कृष्ण से प्रेम का अपना अलग ही आनन्द है
Anand Kumar
ना जाने क्यों आज वक्त ने हालात बदल
ना जाने क्यों आज वक्त ने हालात बदल
Vishal babu (vishu)
कविता
कविता
Rambali Mishra
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वेदना की संवेदना
वेदना की संवेदना
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
मानवता का धर्म है,सबसे उत्तम धर्म।
मानवता का धर्म है,सबसे उत्तम धर्म।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"शिक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
यह बात शायद हमें उतनी भी नहीं चौंकाती,
यह बात शायद हमें उतनी भी नहीं चौंकाती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
फूल
फूल
Neeraj Agarwal
गिलहरी
गिलहरी
Satish Srijan
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
शेखर सिंह
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हे ! गणपति महाराज
हे ! गणपति महाराज
Ram Krishan Rastogi
Loading...