Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 2 min read

बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)

बुंदेली दोहा प्रतियोगी-151
दिनांक 13.1.2024
प्रदत्त विषय:-लुगया
संयोजक- राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
आयोजक- जय बुंदेली साहित्य समूह टीकमगढ़
प्राप्त प्रविष्ठियां :-
1
यारों ई कलिकाल में, कैसें पाहौ पार।।
भीष्म पितामह की सुनो, गयॅं लुगया सें हार।।
***
-भगवान सिंह लोधी “अनुरागी”,हटा
2
लुगया लुगवन खाँ बृथाँ, नैं करिऔ बदनाम।
ब्याव-काज में बे करत,हरय-गरय सब काम।।
***
-गोकुल प्रसाद यादव,नन्हींटेहरी,बुढ़ेरा
3 (प्रथम स्थान प्राप्त दोहा)
लुगया की लीला लखैं,सुनौं सबहिं गरयात।
लपर-लपर रोजउँ करैं,ललियन सैं बतयात।।
***
-प्रदीप खरे मंजुल, टीकमगढ़
4
लटक मटक चालें चलें,जनियन बैठें आन।
सारहीन बतकाव है,लुगयन की पहचान। ।
***
-आशा रिछारिया जिला निवाडी
*5
लुगया की जो बात में , आकर कै फँस जात |
कारज में शंका रयै , खट्टौ भी बौ खात ||
***
-सुभाष सिंघई,जतारा
6 (द्वितीय स्थान प्राप्त दोहा)
लुक लुकात घूमें फिरे, जो नर नारी बीच।
लुगया ऊखों जानियो, करै बीच में कीच।।
***
-संजय श्रीवास्तव,मवई (दिल्ली)
7
बैठें रोज लुगान नौं,लुगया उनसैं कात ।
मनसा सैं वे साफ रत,आदत बुरी बनात ।।
***
-शोभाराम दाँगी, नदनवारा
8
दूषित करबै में जुरौ,चिंतन और चरित्र।
लुगया खों लूघर लगे, बनो लुगाइन मित्र।।
***
-रामेश्वर प्रसाद गुप्ता इंदु.,बडागांव झांसी उप्र.
9
जानें की के भाग सैं , जूज जात है जोग।
घरबारी रत आकरी , उर लुगया रत लोग।।
***
-आशाराम वर्मा “नादान ” पृथ्वीपुरी
10
लुगया की अब का कने, लुखरयात सो रात।
दिखै नरन के संग नइँ, बइरन बीच छुछात।।
***
-अमर सिंह राय, नौगांव
11
लुगया,लटे,लचैलया,जे नें कभउँ अगायँ।
की के चूलें का चड़ो, घर-घर ढूंकत रायँ।।
***
-डां. देवदत्त द्विवेदी,बड़ामलेहरा
12
लुगया सें लुगया कनें , तबइ समझ में आय।
चलौ सबइ ऊके घरै , उतइ पियें हम चाय।।
***
-वीरेन्द चंसौरिया,टीकमगढ़
13 (तृतीय स्थान प्राप्त दोहा)
जो नर लुगया होत‌‌ हैं,धरबें रुप अनूप।
हुरें औरतन के लिगाँ, तापें लेवें धूप।।
***
-रामानंद पाठक,नैगुवां
14
लुगया सें सब हैं चिड़त, लुगया कौ जौ हाल।
लुगया डरत लुगाइ सें, खूब दिखावै चाल।।
***
– अंजनी कुमार चतुर्वेदी, निवाड़ी

###########@@@####
संयोजक- राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
आयोजक जय बुंदेली साहित्य समूह टीकमगढ़

1 Like · 56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
इश्क चख लिया था गलती से
इश्क चख लिया था गलती से
हिमांशु Kulshrestha
भाव तब होता प्रखर है
भाव तब होता प्रखर है
Dr. Meenakshi Sharma
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बुरे हालात से जूझने में
बुरे हालात से जूझने में
*Author प्रणय प्रभात*
वाणी वंदना
वाणी वंदना
Dr Archana Gupta
"फासला और फैसला"
Dr. Kishan tandon kranti
तू सुन ले मेरे दिल की पुकार को
तू सुन ले मेरे दिल की पुकार को
gurudeenverma198
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
पूर्वार्थ
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
भ्रम जाल
भ्रम जाल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
Anil Mishra Prahari
Red is red
Red is red
Dr. Vaishali Verma
इंसान VS महान
इंसान VS महान
Dr MusafiR BaithA
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
Global climatic change and it's impact on Human life
Global climatic change and it's impact on Human life
Shyam Sundar Subramanian
श्रीकृष्ण
श्रीकृष्ण
Raju Gajbhiye
23/194. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/194. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भोजपुरी गायक
भोजपुरी गायक
Shekhar Chandra Mitra
राज
राज
Neeraj Agarwal
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
जब बूढ़ी हो जाये काया
जब बूढ़ी हो जाये काया
Mamta Rani
आहट
आहट
Er. Sanjay Shrivastava
"प्रीत की डोर”
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तुम्हे नया सा अगर कुछ मिल जाए
तुम्हे नया सा अगर कुछ मिल जाए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"जिंदगी"
नेताम आर सी
*हनुमान (बाल कविता)*
*हनुमान (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मेरी बेटी मेरी सहेली
मेरी बेटी मेरी सहेली
लक्ष्मी सिंह
वक्त
वक्त
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Loading...