Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2023 · 1 min read

बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)

बुंदेली दोहा शब्द – जंट (मजबूत)

जंट बाँधियौ गाँठ सब , कहीं निनुर ना जाय |
#राना जित निनुरी दिखे , कोउ न बाँदन आय ||

उनकी गाँठें जंट हैं , जिनकी मनसा नेक |
#राना जो कारज करत , राखत तनिक विवेक ||

जंट बात #राना कहत , बिनतुआइ है आज |
अंट शंट हिलगंठ कै , कभउँ न करियौ काज ||

#राना चलियौ गैल में , रखियौ मनसा जंट |
चित्त पट्ट सब जेब में , पाँव तरै सब अंट ||

#राना जिनसे दोसती , हम राखत है जंट |
हर कौनें से भी मदद , ईसुर करतइ अंट ||
***
© राजीव नामदेव “राना लिधौरी” टीकमगढ़
संपादक- “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com
Blog-rajeevranalidhori.blogspot.com

1 Like · 422 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
तन्हा -तन्हा
तन्हा -तन्हा
Surinder blackpen
खैर-ओ-खबर के लिए।
खैर-ओ-खबर के लिए।
Taj Mohammad
*हम नदी के दो किनारे*
*हम नदी के दो किनारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अगणित शौर्य गाथाएं हैं
अगणित शौर्य गाथाएं हैं
Bodhisatva kastooriya
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
Vishal babu (vishu)
2537.पूर्णिका
2537.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
कवि रमेशराज
याद - दीपक नीलपदम्
याद - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हम पचास के पार
हम पचास के पार
Sanjay Narayan
#गीत-
#गीत-
*प्रणय प्रभात*
मोमबत्ती जब है जलती
मोमबत्ती जब है जलती
Buddha Prakash
फुलवा बन आंगन में महको,
फुलवा बन आंगन में महको,
Vindhya Prakash Mishra
सागर ने भी नदी को बुलाया
सागर ने भी नदी को बुलाया
Anil Mishra Prahari
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*सत्ता कब किसकी रही, सदा खेलती खेल (कुंडलिया)*
*सत्ता कब किसकी रही, सदा खेलती खेल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिंदगी एक भंवर है
जिंदगी एक भंवर है
Harminder Kaur
"सोच"
Dr. Kishan tandon kranti
खत उसनें खोला भी नहीं
खत उसनें खोला भी नहीं
Sonu sugandh
विश्वकप-2023
विश्वकप-2023
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
पुनर्जन्म का साथ
पुनर्जन्म का साथ
Seema gupta,Alwar
सब कुछ हो जब पाने को,
सब कुछ हो जब पाने को,
manjula chauhan
जन्म दिन
जन्म दिन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ज़माना इश्क़ की चादर संभारने आया ।
ज़माना इश्क़ की चादर संभारने आया ।
Phool gufran
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
"अश्क भरे नयना"
Ekta chitrangini
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
ज़माने पर भरोसा करने वालों, भरोसे का जमाना जा रहा है..
पूर्वार्थ
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
Mukesh Kumar Sonkar
When the destination,
When the destination,
Dhriti Mishra
चौकीदार की वंदना में / MUSAFIR BAITHA
चौकीदार की वंदना में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
धाम- धाम में ईश का,
धाम- धाम में ईश का,
sushil sarna
Loading...