Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2021 · 3 min read

बुंदेली (दमदार दुमदार ) दोहे

बुंदेली (दमदार दुमदार ) दोहे

माते कक्का घास में , सुलगा गय है आग |
मड़ी कथूले की मुड़ी , ठोको ठाड़ों दाग ||
रामजी मौ में तारो |
देश है मोरौ न्यारो ||

बिन्नू सपरन खौ गई , लहरें उठती घाट |
रामदुलारी जान रइ ,बिन्नु कौ गर्राट ||
रामजी मौ में तारो |
देश है मोरौ न्यारो ||

लचक कमरियां देखकर , टपकी बब्बा लार |
आँख दबाकर दे रहे , लरकन खौ उसकार ||
रामजी मौ में तारो |
देश है मोरौ न्यारो ||

गलती माते जू करें , सबरे साधें मौन |
उरजट्टे खौं सोचते सामें आवै कौन |
रामजी मौ में तारो |
देश है मोरौ न्यारो ||

दारु बँट रई गाँव में , डलने हैं कल वोट |
सबई चिमाने लग रहे ,डाल खलेती नोट ||
रामजी मौ में तारो |
देश है मोरौ न्यारो ||

लरका माते को लगे , सब लरकन से भिन्न |
फिर भी पूजो जात है , रात दिना रत टुन्न ||
रामजी मौ में तारो |
देश है मोरौ न्यारो ||

करें टिटकरी गाँव के ,फटियाँ की लख नार |
कहें भुजाई डोकरे , खूब जताए प्यार ||
रामजी मौ‌ में तारो |
देश है मोरौ न्यारो ||

कोरोना के काल में , भूखा मरो किसान |
पर डबला से फूल गय , देखो सभी प्रधान ||
रामजी मौ में तारो |
देश है मोरौ न्यारो ||

उससे ना कुछ बोलते , जिससे भाँवर सात |
मोदी बाजौ टुनटुना ,करते मन की बात ||
रामजी मौ में तारो |
देश है मोरौ न्यारो ||

बापू आशाराम का , राधे माँ खौ ज्ञान |
इक दूजे का चित्त से , करते अंतरध्यान ||
रामजी मौ में तारो |
देश है मोरौ न्यारो ||

माते कुत्ता मारने , घर ले आए लठ्ठ |
मातिन ने अजमा लिया, माते पर ही झट्ठ ||
रामजी मौ में तारो |
देश है मोरौ न्यारो ||

राम राम जू चल उठे , भुनसारे से शाम |
समझो पास चुनाव हैं , बँटने दारू दाम ||
रामजी मौ में तारो |
देश है मोरौ न्यारो ||

मोड़ी मुखिया की भगी, कौसे कलुआ बैन |
खबर पैल से ना दई , ईसै हौ गइ ठैन ||
रामजी मौ में तारो |
देश है मोरौ न्यारो ||

जुड़कर पुंगा गाँव के , बात रहे है फांक |
जो जितनी ही फाँक ले,उतनी उसकी धांक ||
रामजी मौ में तारो |
देश है मोरौ न्यारो ||

परी लुक लुकी भरतु खौ , पूँछन गऔ है बात |
टपरा कौन मताइ थी , कक्का आघी रात ||
सांच खौं अबइँ बता दो |
झूँठ खौं इतइ लुका दो ||

सबरे नेता बन गए , तक लो आज किसान |
गुड़ की परिया फूलती, डूठा पर दे ब्यान ||
शरम ना इनखौ आती |
लाज खुदई शरमाती ||

माते अब हर बात में , फंसा देत है टाँग |
जौन कुआँ‌ साजो दिखे , डाल देत है भाँग ||
मजा सबका है लेते |
गांठ से कुछ ना देते ||

करी तरक्की देश ने ,बैसई करत ववाल |
मिले गर्भ से गमन तक ,जरिया ठौक दलाल ||
सुनइँ लो सबरे लल्ला |
करौ ना कौनउँ हल्ला ||

सेंगो गुटका डार के ,थूकन गए जब पीक |
लगो करकरो औंठ में , बसा उठी जब लीद ||
रामधइ कब मानोगे |
छौड़ना कब ठानोगें ||

लबरन से बचकर चले , हमने समझों रोग |
लबरा डीगें फाँक रय , हमसे डरते लोग ||
रामधइ ना मानेगें |
पनैया पहचानेगें ||

देख गुली के पेड़ पर , पके टगें है आम |
ललचाकर माते चढे, नीचें गिरें धड़ाम ||
नौनी बजी ढुलकिया |
पौर में‌ बिछ गई खटिया ||

बैरा आंखे बांधता , अंदरा बांधत कान |
लूले कुररू दे रहे , लाने को सामान ||
दनादन बाजे बजते |
नहीं अब हम कुछ कहते ||

बूँद गिरे या ना गिरे , करते रहिए शोर |
सावन भादौ लग गयों , नाच रहे है मोर ||
झूंठ को बांध पुलिन्दा |
करते रहिए धंधा ||

लाखों देकर फैसला , अफसर बड़ा महान |
फाइल खोजी सौ लिए , बाबू बेईमान ||
देश में यही कहानी |
कथा है बड़ी पुरानी ||

एक फीट गड्डा खुदा , शौचालय निर्माण |
जाँच कमेटी कह गई, दस है सत्य प्रमाण ||
काम सब सरकारी |
ऐसई बनतई तरकारी ||

सरकारी कर्जा मिला ,खर्च किए कछु दाम |
वोट दिया माफी मिली , बड़ा सुलभ है काम ||
बगिया लौचें माली |
बजाओं सबरे ताली ||

जौन तला बिन्नु करे , लोर लोर गर्राट |
माते को लरका उते, सबखौ रोके घाट ||
अजब यहाँ की रंगत | (अहा)
खावें मिलने पंगत ||

बिन्नु लोरे जिस तला , और‌ करें खरयाट |
लरका माते‌ को खड़ो ,भुन्सारे‌ से घाट ||
राम मिलाई जोड़ी |
लगी ठिकाने‌ मोड़ी ||

लगा मुसीका बिन्नु ने , पूरो‌ करौ बजार |
इते सुभाष अब सोचते , कीखौं दयो उधार ||
पूरी शकल ना चीनीं |
कीखौं सौदा दीनी ||

भुन्सारे से बिन्नु ने , दयो दोदरा यार |
पंचर कर दई माते की , खड़ी द्वार पर कार ||
मौ में बांध मुसीका |
बिन्नु बनी खलीफा ||

सुभाष सिंघईसिंघई
एम•ए•,हिंदी साहित्य , दर्शन शास्त्र
जतारा (टीकमगढ़)म०प्र०.

Language: Hindi
1 Like · 2627 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
।। समीक्षा ।।
।। समीक्षा ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"सिक्का"
Dr. Kishan tandon kranti
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
सत्य कुमार प्रेमी
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
Rj Anand Prajapati
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
नेताम आर सी
बन्दिगी
बन्दिगी
Monika Verma
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
** पर्व दिवाली **
** पर्व दिवाली **
surenderpal vaidya
कभी मोहब्बत के लिए मरता नहीं था
कभी मोहब्बत के लिए मरता नहीं था
Rituraj shivem verma
*कौन है ये अबोध बालक*
*कौन है ये अबोध बालक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्यारा सुंदर वह जमाना
प्यारा सुंदर वह जमाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आज का महाभारत 2
आज का महाभारत 2
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
किन मुश्किलों से गुजरे और गुजर रहे हैं अबतक,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"दावतें" छोड़ चुके हैं,
*प्रणय प्रभात*
3486.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3486.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
*देश के  नेता खूठ  बोलते  फिर क्यों अपने लगते हैँ*
*देश के नेता खूठ बोलते फिर क्यों अपने लगते हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ग़ज़ल
ग़ज़ल
abhishek rajak
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
*हे शिव शंकर त्रिपुरारी,हर जगह तुम ही तुम हो*
*हे शिव शंकर त्रिपुरारी,हर जगह तुम ही तुम हो*
sudhir kumar
భారత దేశ వీరుల్లారా
భారత దేశ వీరుల్లారా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*धन्य-धन्य वे जिनका जीवन सत्संगों में बीता (मुक्तक)*
*धन्य-धन्य वे जिनका जीवन सत्संगों में बीता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
भगवान
भगवान
Adha Deshwal
वो सपने, वो आरज़ूएं,
वो सपने, वो आरज़ूएं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
प्रेम
प्रेम
Acharya Rama Nand Mandal
दिल के सभी
दिल के सभी
Dr fauzia Naseem shad
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धनतेरस के अवसर पर ,
धनतेरस के अवसर पर ,
Yogendra Chaturwedi
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
Neelam Sharma
Loading...