Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Apr 2023 · 1 min read

बीती सदियाँ राम हैं , भारत के उपमान(कुंडलिया)

बीती सदियाँ राम हैं , भारत के उपमान(कुंडलिया)
——————————————————
बीती सदियाँ राम हैं , भारत के उपमान
मर्यादा के हैं शिखर ,उज्ज्वल खिले विहान
उज्ज्वल खिले विहान ,वीर नवयुग रच जाते
गाथा धरा – मनुष्य ,भक्ति से जिनकी गाते
कहते रवि कविराय , राम के बिन है रीती
भारत की हर शाम ,सदी हर अब तक बीती
—————————————————–
उपमान = जिसकी उपमा दी जाए
विहान = प्रातः काल, सुबह
रीती = सारहीन ,खाली खोखली
——————————————————
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

572 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
ञ'पर क्या लिखूं
ञ'पर क्या लिखूं
Satish Srijan
*
*"तुलसी मैया"*
Shashi kala vyas
जलियांवाला बाग
जलियांवाला बाग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
कुछ व्यंग्य पर बिल्कुल सच
Ram Krishan Rastogi
भरे हृदय में पीर
भरे हृदय में पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
-- मैं --
-- मैं --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
जला रहा हूँ ख़ुद को
जला रहा हूँ ख़ुद को
Akash Yadav
निरोगी काया
निरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"हालात"
Dr. Kishan tandon kranti
3195.*पूर्णिका*
3195.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू ही मेरा रहनुमा है
तू ही मेरा रहनुमा है
Monika Arora
ख़ुद को यूं ही
ख़ुद को यूं ही
Dr fauzia Naseem shad
*सच कहने में सौ-सौ घाटे, नहीं हाथ कुछ आता है (हिंदी गजल)*
*सच कहने में सौ-सौ घाटे, नहीं हाथ कुछ आता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
राजनीतिक फायदे के लिए, तुम मुकदर्शक हो गये तो अनर्थ हो जाएगा
राजनीतिक फायदे के लिए, तुम मुकदर्शक हो गये तो अनर्थ हो जाएगा
नेताम आर सी
नारियां
नारियां
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
आज़ाद हूं मैं
आज़ाद हूं मैं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है।  ...‌राठौड श्
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है। ...‌राठौड श्
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
Rituraj shivem verma
लडकियाँ
लडकियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मित्रतापूर्ण कीजिए,
मित्रतापूर्ण कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
शेखर सिंह
*** चोर ***
*** चोर ***
Chunnu Lal Gupta
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लुट गए अरमान तो गम हमें होगा बहुत
लुट गए अरमान तो गम हमें होगा बहुत
VINOD CHAUHAN
कभी-कभी
कभी-कभी
Ragini Kumari
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
समूह
समूह
Neeraj Agarwal
***
***
sushil sarna
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
Loading...