Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2023 · 1 min read

बिहार

जग जननी की जन्म भूमि
जहां गौतम बुद्ध को ज्ञान मिला
कलकल गंग की धार जहां
खेतों में अमृत डाल दिया ।

जो गुरु गोविंद की क्रीड़ा स्थल
जिस धरती ने महावीर दिया ।
धरती है वह धन्य
जो जग को शून्य सरीखे मान दिया।

गर्व हमें उस धरती पर
जो भारत को सम्मान दिया
देश के पहले राष्ट्रपति का
जन्म हमारा राज्य दिया ।

नमन करूं उस मिट्टी को
जो लोकतंत्र को जन्म दिया
सर्वे विदित प्रकांड नीतिज्ञ
इस धरती ने चाणक्य दिया

इस धरती ने साहित्यीक नभ में
दिनकर जैसा सूर्य दिया।
रामवृक्ष , रेणु की कथा ने
भारत को स्वाभिमान दिया ।

गर्व हमें राष्ट्रीय चिह्न पर
वह भी मेरा राज्य दिया
मिथिला की वैभव तो देखो
विद्यापति का गान दिया ।

जय बिहार
समीर कुमार ‘कन्हैया’

Language: Hindi
1 Like · 128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाबूजी
बाबूजी
Kavita Chouhan
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
Anil Mishra Prahari
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
बादल बनके अब आँसू आँखों से बरसते हैं ।
बादल बनके अब आँसू आँखों से बरसते हैं ।
Neelam Sharma
तुम कब आवोगे
तुम कब आवोगे
gurudeenverma198
अधूरा इश्क़
अधूरा इश्क़
Shyam Pandey
"सुख के मानक"
Dr. Kishan tandon kranti
कोरोना तेरा शुक्रिया
कोरोना तेरा शुक्रिया
Sandeep Pande
मकर पर्व स्नान दान का
मकर पर्व स्नान दान का
Dr. Sunita Singh
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
सत्य कुमार प्रेमी
सवालिया जिंदगी
सवालिया जिंदगी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,
जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,
Seema gupta,Alwar
2543.पूर्णिका
2543.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
Poonam Matia
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
Tarun Garg
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
* सत्य,
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
चाची बुढ़िया अम्मा (बाल कविता)
चाची बुढ़िया अम्मा (बाल कविता)
Ravi Prakash
मिट्टी का बदन हो गया है
मिट्टी का बदन हो गया है
Surinder blackpen
सुहावना समय
सुहावना समय
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
मैं तो हमेशा बस मुस्कुरा के चलता हूॅ॑
मैं तो हमेशा बस मुस्कुरा के चलता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अंधविश्वास का पुल / DR. MUSAFIR BAITHA
अंधविश्वास का पुल / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
पलकों की
पलकों की
हिमांशु Kulshrestha
" सुन‌ सको तो सुनों "
Aarti sirsat
(19) तुझे समझ लूँ राजहंस यदि----
(19) तुझे समझ लूँ राजहंस यदि----
Kishore Nigam
"गुमनाम जिन्दगी ”
Pushpraj Anant
कृपया मेरी सहायता करो...
कृपया मेरी सहायता करो...
Srishty Bansal
An Analysis of All Discovery & Development
An Analysis of All Discovery & Development
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...