Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

बिल्ली

बिल्ली ___
बिल्ली बोली म्याऊं म्याऊं
मैं तो दिल्ली देखने जाऊं
लालकिले का तिरंगा देखूं
पहन के जींस मैं इतराऊं
नरम नरम बाल हैं मेरे
काले काले और सुनहरे
गले में बांधा लाल रुमाल
आंख पर चश्मा चटकीली चाल
तभी अचानक बदली छाई
तड़ तड़ तड़ तड़ बारिश आई
रेनकोट छाता संग ना लाई
भीगे कपड़े और हो गई गीली
आंच्छी आंच्छी लगी छींकने
अदरक वाली चाय भी पी ली
बिना रूमाल के कभी न छींको
फिर डॉक्टर ने दी मीठी गोली
कान पकड़े और तौबा कर ली
अब ना जाऊंगी मैं दिल्ली
__ मनु वाशिष्ठ

1 Like · 389 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manu Vashistha
View all
You may also like:
★ किताबें दीपक की★
★ किताबें दीपक की★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
प्रकृति
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
शान्त हृदय से खींचिए,
शान्त हृदय से खींचिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
manjula chauhan
यादों के तराने
यादों के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Raksha Bandhan
Raksha Bandhan
Sidhartha Mishra
निराकार परब्रह्म
निराकार परब्रह्म
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"एकान्त चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
जागृति
जागृति
Shyam Sundar Subramanian
*बरसे एक न बूँद, मेघ क्यों आए काले ?*(कुंडलिया)
*बरसे एक न बूँद, मेघ क्यों आए काले ?*(कुंडलिया)
Ravi Prakash
"स्टिंग ऑपरेशन"
Dr. Kishan tandon kranti
सावन महिना
सावन महिना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
घरौंदा इक बनाया है मुहब्बत की इबादत लिख।
घरौंदा इक बनाया है मुहब्बत की इबादत लिख।
आर.एस. 'प्रीतम'
संतोष
संतोष
Manju Singh
क्या अब भी तुम न बोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
Rekha Drolia
■ तो समझ लेना-
■ तो समझ लेना-
*प्रणय प्रभात*
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
Gouri tiwari
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
हमने भी मौहब्बत में इन्तेक़ाम देखें हैं ।
Phool gufran
हम पर कष्ट भारी आ गए
हम पर कष्ट भारी आ गए
Shivkumar Bilagrami
ना मुमकिन
ना मुमकिन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ नमी अपने साथ लाता है
कुछ नमी अपने साथ लाता है
Dr fauzia Naseem shad
डीएनए की गवाही
डीएनए की गवाही
अभिनव अदम्य
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
Shashi kala vyas
वो खिड़की जहां से देखा तूने एक बार
वो खिड़की जहां से देखा तूने एक बार
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
टाँगतोड़ ग़ज़ल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
प्यार के पंछी
प्यार के पंछी
Neeraj Agarwal
बेटी
बेटी
Akash Yadav
24/227. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/227. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...