Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 2 min read

बिल्ली की तो हुई सगाई

बाल कविता

बिल्ली की तो हुई सगाई
जँगल में फिर सभा बुलाई
बात खुशी की उन्हें सुनाई
सुनकर सारे नाचे झूमे
डाल डाल पर बन्दर घूमे
हाथी अपनी सूंड उठाये
कोयल मीठा राग सुनाए
शेरू बोला करो तैयारी
बिल्ली लगती मौसी हमारी
गीदड़ ने फिर हूक लगाई
बिल्ली की तो हुई सगाई

हाथी दादा बने हलवाई
भाँति भाँति की बनी मिठाई
कल्लू भैंसा हलवा घोटे
दाँत दिखाए मोटे मोटे
बर्फी बनाए बन्दर मामा
चिम्पांजी ने पलटा थामा
ढोलू भोलू लड्डू बनवाए
आँख छुपा कर गप कर जाए
चुन चुन चिड़िया खीर पकाए
काजू पिस्ता खूब मिलाए
जठरू भालू ले जम्हाई
बिल्ली की तो हुई सगाई

बिट्टो गिलहरी कपड़े लाई
पहन के बिल्ली इतराई
बंटो बकरी सैण्डल लाई
शेरू ने पेण्डल गड़वाई
मेकअप करने आई सहेली
उसे बनाने नई नवेली
काला चश्मा दिल्ली से आया
ऑनलाइन दगड़ू ने मंगवाया
अमरिका से घड़ी मँगाई
बिल्ली की तो हुई सगाई

कठफोड़वा लकड़ी लाता
जोड़ जोड़ कर पलंग बनाता
फूल तितलियाँ चुनकर लाती
रस्ते रस्ते उन्हें बिछाती
पांडाल भी हुआ तैयार
ढोल नगाड़ों की झंकार
साज बाज चीता ले आया
एक धमक से जंगल थर्राया
लम्बू जिराफ़ ने करी पुताई
बिल्ली की तो हुई सगाई

कालू कौआ न्यौता छाँटे
दौड़ दौड़ कर हिरन बाँटे
पीले चावल खरगू लाये
संग में उसके मिट्ठू जाए
हारुल हल्दी लाती है
आये नाते नाती हैं
मामा के संग मामी आई
अपनी बिल्लो गले लगाई
धमा चौकड़ी हुआ हंगामा
चुनर उड़ाए बन्दर मामा
कुरजां ने फिर टेर लगाई
बिल्ली की तो हुई सगाई

चटक चटक कर उपटन पिस्ता
शेरू अपने दाँतो को घिसता
बिल्लो रानी बाल सँवारे
कल्लो उसके काज़ल डारे
माता उसकी नज़र उतारे
नमक मिर्ची के उठे धुँवारे
लग्न पत्रिका टुन टुन बाँचे
पंख फैलाकर मोर नाचे
ढोल नगाड़े डम डम बाजे
ऊँची कुर्सी शेर विराजे
दरवाजे पर लड़ियाँ लटकाई
बिल्ली की तो हुई सगाई

हुक्का भरकर मंगू आया
झूम झूम माहौल बनाया
चहक उठा है जंगल सारा
खुशियों का तो खुला पिटारा
सज धज कर सब हुए तैयार
बिल्लो का था इंतजार
आज वन में खुशियां छाई
चाचा चाची ताऊ ताई
मिलकर सबने धूम मचाई
बिल्ली की तो हुई सगाई

भवानी सिंह ‘भूधर
बड़नगर , जयपुर

1 Like · 60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“परिंदे की अभिलाषा”
“परिंदे की अभिलाषा”
DrLakshman Jha Parimal
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
Kavita Chouhan
बेरोजगारी के धरातल पर
बेरोजगारी के धरातल पर
Rahul Singh
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
Shivkumar Bilagrami
ये पांच बातें
ये पांच बातें
Yash mehra
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
"नींद की तलाश"
Pushpraj Anant
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल (यूँ ज़िन्दगी में आपके आने का शुक्रिया)
ग़ज़ल (यूँ ज़िन्दगी में आपके आने का शुक्रिया)
डॉक्टर रागिनी
माँ सुहाग का रक्षक बाल 🙏
माँ सुहाग का रक्षक बाल 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वही खुला आँगन चाहिए
वही खुला आँगन चाहिए
जगदीश लववंशी
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
SPK Sachin Lodhi
गाए जा, अरी बुलबुल
गाए जा, अरी बुलबुल
Shekhar Chandra Mitra
मोहे हिंदी भाये
मोहे हिंदी भाये
Satish Srijan
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
करूण संवेदना
करूण संवेदना
Ritu Asooja
* आओ ध्यान करें *
* आओ ध्यान करें *
surenderpal vaidya
आई वर्षा
आई वर्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
* सत्य,
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
विश्व कप-2023 का सबसे लंबा छक्का किसने मारा?
विश्व कप-2023 का सबसे लंबा छक्का किसने मारा?
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
🙅ओनली पूछिंग🙅
🙅ओनली पूछिंग🙅
*Author प्रणय प्रभात*
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
आनंद प्रवीण
न दीखे आँख का आँसू, छिपाती उम्र भर औरत(हिंदी गजल/ गीतिका)
न दीखे आँख का आँसू, छिपाती उम्र भर औरत(हिंदी गजल/ गीतिका)
Ravi Prakash
जय जय तिरंगा तुझको सलाम
जय जय तिरंगा तुझको सलाम
gurudeenverma198
राम रहीम और कान्हा
राम रहीम और कान्हा
Dinesh Kumar Gangwar
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
लक्ष्मी सिंह
झुर्रियों तक इश्क़
झुर्रियों तक इश्क़
Surinder blackpen
"कदर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...