Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2023 · 1 min read

बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की

बिन पैसों के नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की।
मर जावो चाहे तड़पकर, नहीं खबर इंसान की।।
बिन पैसों के नहीं कुछ भी—————-।।

जड़ है सभी मुसीबतों की, यहाँ सिर्फ यह पैसा ही।
मिटाता है दर्द सभी का, यहाँ सिर्फ यह पैसा ही।।
वरना बहाते रहो आँसू , नहीं दया इंसान की।
बिन पैसों के नहीं कुछ भी—————-।।

दोस्त भी हो जाते हैं, दुश्मन यहाँ पैसों के लिए।
जुड़ते हैं रिश्तें भी सदा, सिर्फ यहाँ पैसों के लिए।।
वरना जीवो यहाँ अकेले, कीमत नहीं इंसान की।
बिन पैसों के नहीं कुछ भी—————–।।

हर किसी को बहुत प्यार है, लेकिन वह भी पैसों से।
मिलेगी यहाँ इज्जत भी बहुत, लेकिन वह भी पैसों से।।
चाहे तुम हो सत्यवादी, नहीं शान ऐसे इंसान की।
बिन पैसों के नहीं कुछ भी—————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
Dr MusafiR BaithA
"वो एक बात जो मैने कही थी सच ही थी,
*Author प्रणय प्रभात*
Dr. Arun Kumar Shastri
Dr. Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हिंदी दोहा शब्द- घटना
हिंदी दोहा शब्द- घटना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
......तु कोन है मेरे लिए....
......तु कोन है मेरे लिए....
Naushaba Suriya
" लो आ गया फिर से बसंत "
Chunnu Lal Gupta
*दौड़ा लो आया शरद, लिए शीत-व्यवहार【कुंडलिया】*
*दौड़ा लो आया शरद, लिए शीत-व्यवहार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
अरमान गिर पड़े थे राहों में
अरमान गिर पड़े थे राहों में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मत छोड़ो गॉंव
मत छोड़ो गॉंव
Dr. Kishan tandon kranti
"जुबांँ की बातें "
Yogendra Chaturwedi
मुहब्बत
मुहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
Dr.Khedu Bharti
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बच्चे पढ़े-लिखे आज के , माँग रहे रोजगार ।
बच्चे पढ़े-लिखे आज के , माँग रहे रोजगार ।
Anil chobisa
"प्रेमको साथी" (Premko Sathi) "Companion of Love"
Sidhartha Mishra
व्यस्तता जीवन में होता है,
व्यस्तता जीवन में होता है,
Buddha Prakash
राम वन गमन हो गया
राम वन गमन हो गया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"अवसाद"
Dr Meenu Poonia
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
Anis Shah
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
Sakhawat Jisan
आज दिवस है  इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
आज दिवस है इश्क का, जी भर कर लो प्यार ।
sushil sarna
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
कवि दीपक बवेजा
(19)
(19)
Dr fauzia Naseem shad
आलोचना
आलोचना
Shekhar Chandra Mitra
पलकों की
पलकों की
हिमांशु Kulshrestha
गौरवशाली भारत
गौरवशाली भारत
Shaily
कुछ कहमुकरियाँ....
कुछ कहमुकरियाँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मोहे हिंदी भाये
मोहे हिंदी भाये
Satish Srijan
Loading...