Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 1 min read

जालिम

बिन खता के कैद में था,
जालिम कोविड ए दौर में।
पड़ा रहता मैं पलंग पर,
रोगी था बिन मर्ज के।

बज्ज निकम्मे जितने बच्चे,
आला तालिब सब हुए।
बिन परीक्षा पास हो गए,
अव्वल दर्जे में सभी।

बेमुरव्वत उन दिनों थे
अपने अथवा गैर हों।
मियां बीबी में बना था,
दो दो गज का फांसला।

कागज़ कलम स्याही बनकर,
मोबाइल था हमसफ़र।
एक फायदा हुआ मुझको,
मैं भी शायर बन गया।

-सतीश सृजन

Language: Hindi
1 Like · 967 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
सजल नयन
सजल नयन
Dr. Meenakshi Sharma
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
गुमनाम 'बाबा'
मुझे बिखरने मत देना
मुझे बिखरने मत देना
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
2693.*पूर्णिका*
2693.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"प्रेम की अनुभूति"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"पता सही होता तो"
Dr. Kishan tandon kranti
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
हैं सितारे डरे-डरे फिर से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
Dr Shweta sood
अधूरी दास्तान
अधूरी दास्तान
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
محبّت عام کرتا ہوں
محبّت عام کرتا ہوں
अरशद रसूल बदायूंनी
मां तुम्हारा जाना
मां तुम्हारा जाना
अनिल कुमार निश्छल
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
gurudeenverma198
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
समझौते की कुछ सूरत देखो
समझौते की कुछ सूरत देखो
sushil yadav
// प्रसन्नता //
// प्रसन्नता //
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लोग जीते जी भी तो
लोग जीते जी भी तो
Dr fauzia Naseem shad
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
कड़वी  बोली बोल के
कड़वी बोली बोल के
Paras Nath Jha
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
अब रिश्तों का व्यापार यहां बखूबी चलता है
Pramila sultan
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
अजीज़ सारे देखते रह जाएंगे तमाशाई की तरह
_सुलेखा.
हालातों से युद्ध हो हुआ।
हालातों से युद्ध हो हुआ।
Kuldeep mishra (KD)
नींद कि नजर
नींद कि नजर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीवन में,
जीवन में,
नेताम आर सी
दीप्ति
दीप्ति
Kavita Chouhan
एक किताब सी तू
एक किताब सी तू
Vikram soni
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
आंख बंद करके जिसको देखना आ गया,
Ashwini Jha
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अतीत
अतीत
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
Loading...