Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

बिना मेहनत के कैसे मुश्किल का तुम हल निकालोगे

बिना मेहनत के कैसे मुश्किल का तुम हल निकालोगे
आज को डालोगे भट्टी में तभी तो कल निकालोगे

Deepak saral

2 Likes · 360 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ख्याल........
ख्याल........
Naushaba Suriya
प्यार
प्यार
Kanchan Khanna
जुड़ी हुई छतों का जमाना था,
जुड़ी हुई छतों का जमाना था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* प्यार का जश्न *
* प्यार का जश्न *
surenderpal vaidya
"रियायत"
Dr. Kishan tandon kranti
23/125.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/125.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
देर हो जाती है अकसर
देर हो जाती है अकसर
Surinder blackpen
■ हिंदी सप्ताह के समापन पर ■
■ हिंदी सप्ताह के समापन पर ■
*Author प्रणय प्रभात*
नारी
नारी
Dr fauzia Naseem shad
वापस
वापस
Harish Srivastava
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
Pramila sultan
कभी अंधेरे में हम साया बना हो,
कभी अंधेरे में हम साया बना हो,
goutam shaw
ये नफरत बुरी है ,न पालो इसे,
ये नफरत बुरी है ,न पालो इसे,
Ranjeet kumar patre
मैं एक महल हूं।
मैं एक महल हूं।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
आसां  है  चाहना  पाना मुमकिन नहीं !
आसां है चाहना पाना मुमकिन नहीं !
Sushmita Singh
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
Atul "Krishn"
अजीब करामात है
अजीब करामात है
शेखर सिंह
# जय.….जय श्री राम.....
# जय.….जय श्री राम.....
Chinta netam " मन "
' नये कदम विश्वास के '
' नये कदम विश्वास के '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
जी करता है...
जी करता है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपनी मंजिल की तलाश में ,
अपनी मंजिल की तलाश में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
*अपनेपन से भर सको, जीवन के कुछ रंग (कुंडलिया)*
*अपनेपन से भर सको, जीवन के कुछ रंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
उफ़ ये बेटियाँ
उफ़ ये बेटियाँ
SHAMA PARVEEN
*जातिवाद का खण्डन*
*जातिवाद का खण्डन*
Dushyant Kumar
Loading...