Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Nov 2023 · 1 min read

बिना पंख फैलाये पंछी को दाना नहीं मिलता

बिना पंख फैलाये पंछी को दाना नहीं मिलता
बगैर मेहनत के कोई खजाना नहीं मिलता,
पल – पल निकलती है उम्र हाथों से
वक्त गँवाने वालों को हरजाना नहीं मिलता।
a m prahari.

225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राजतंत्र क ठगबंधन!
राजतंत्र क ठगबंधन!
Bodhisatva kastooriya
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
तोंदू भाई, तोंदू भाई..!!
Kanchan Khanna
वक्त के इस भवंडर में
वक्त के इस भवंडर में
Harminder Kaur
गरिमामय प्रतिफल
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
कैसे?
कैसे?
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
साधक
साधक
सतीश तिवारी 'सरस'
आप जब हमको दिखते हैं
आप जब हमको दिखते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुलसी न होते तो न, होती लोकप्रिय कथा (घनाक्षरी)
तुलसी न होते तो न, होती लोकप्रिय कथा (घनाक्षरी)
Ravi Prakash
■ सियासत के पाखण्ड। सुर्खी में आने के बीसों बहाने।।😊😊
■ सियासत के पाखण्ड। सुर्खी में आने के बीसों बहाने।।😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
AJAY AMITABH SUMAN
*मन  में  पर्वत  सी पीर है*
*मन में पर्वत सी पीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कितने इनके दामन दागी, कहते खुद को साफ।
कितने इनके दामन दागी, कहते खुद को साफ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बड़ी मुश्किल है
बड़ी मुश्किल है
Basant Bhagawan Roy
सच तो रंग काला भी कुछ कहता हैं
सच तो रंग काला भी कुछ कहता हैं
Neeraj Agarwal
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
बड़े परिवर्तन तुरंत नहीं हो सकते, लेकिन प्रयास से कठिन भी आस
ललकार भारद्वाज
ज्योतिर्मय
ज्योतिर्मय
Pratibha Pandey
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
যখন হৃদয় জ্বলে, তখন প্রদীপ জ্বালানোর আর প্রয়োজন নেই, হৃদয়ে
যখন হৃদয় জ্বলে, তখন প্রদীপ জ্বালানোর আর প্রয়োজন নেই, হৃদয়ে
Sakhawat Jisan
3244.*पूर्णिका*
3244.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
धोखा मिला है अपनो से, तो तन्हाई से क्या डरना l
धोखा मिला है अपनो से, तो तन्हाई से क्या डरना l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
क्या मेरा
क्या मेरा
Dr fauzia Naseem shad
साथ चली किसके भला,
साथ चली किसके भला,
sushil sarna
हसरतें
हसरतें
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरा शहर
मेरा शहर
विजय कुमार अग्रवाल
सच सच कहना
सच सच कहना
Surinder blackpen
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
मित्रता मे बुझु ९०% प्रतिशत समानता जखन भेट गेल त बुझि मित्रत
DrLakshman Jha Parimal
पेड़ से कौन बाते करता है ?
पेड़ से कौन बाते करता है ?
Buddha Prakash
मानवीय संवेदना बनी रहे
मानवीय संवेदना बनी रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...