Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2023 · 1 min read

खुदाया करम इन पे इतना ही करना।

गज़ल

122/122/122/122
खुदाया करम इन पे इतना ही करना।
मिले हर ख़ुशी और गम दूर रखना।1

ये बस सात जन्मों का बंधन है इनका,
इन्हें सौ जनम तक सदा साथ चलना।2

चले जाइए चाहे जैसा हो रस्ता,
जो है साथ प्रिय का तो काहे का डरना।3

के जीवन में सुंदर से सपने दिखें जब,
तो सपनों की दुनियां में खुल के विचरना।4

सदा साथ चलना तो मंजिल मिलेगी,
भले चाहे गिरना मगर फिर सॅंभलना।5

सदा ध्यान रखना सजो और सॅंवरो,
तो इक दूसरे के लिए ही सॅंवरना।6

ये जीवन मरण सच सभी जानते हैं,
के जब तक जिओ एकदूजे पे मरना।

…………✍️ सत्य कुमार प्रेमी

Language: Hindi
241 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है।
आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है।
पूर्वार्थ
तर्कश से बिना तीर निकाले ही मार दूं
तर्कश से बिना तीर निकाले ही मार दूं
Manoj Mahato
अब बदला किस किस से लू जनाब
अब बदला किस किस से लू जनाब
Umender kumar
संवेदनाएं
संवेदनाएं
Buddha Prakash
Though of the day 😇
Though of the day 😇
ASHISH KUMAR SINGH
बेटा
बेटा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बचपन
बचपन
Dr. Seema Varma
जरूरत से ज्यादा
जरूरत से ज्यादा
Ragini Kumari
नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता
नहीं, अब ऐसा नहीं हो सकता
gurudeenverma198
#आध्यात्मिक_कविता
#आध्यात्मिक_कविता
*प्रणय प्रभात*
2714.*पूर्णिका*
2714.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गंगा काशी सब हैं घरही में.
गंगा काशी सब हैं घरही में.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
5 किलो मुफ्त के राशन का थैला हाथ में लेकर खुद को विश्वगुरु क
5 किलो मुफ्त के राशन का थैला हाथ में लेकर खुद को विश्वगुरु क
शेखर सिंह
कौन जात हो भाई / BACHCHA LAL ’UNMESH’
कौन जात हो भाई / BACHCHA LAL ’UNMESH’
Dr MusafiR BaithA
जब हम छोटे से बच्चे थे।
जब हम छोटे से बच्चे थे।
लक्ष्मी सिंह
कालजयी जयदेव
कालजयी जयदेव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
Shweta Soni
झुकता हूं.......
झुकता हूं.......
A🇨🇭maanush
गंगा की जलधार
गंगा की जलधार
surenderpal vaidya
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"गुनाह कुबूल गए"
Dr. Kishan tandon kranti
मुझे ऊंचाइयों पर देखकर हैरान हैं बहुत लोग,
मुझे ऊंचाइयों पर देखकर हैरान हैं बहुत लोग,
Ranjeet kumar patre
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
मैं इन्सान हूं, इन्सान ही रहने दो।
नेताम आर सी
एक सच और सोच
एक सच और सोच
Neeraj Agarwal
अन्तर्मन की विषम वेदना
अन्तर्मन की विषम वेदना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*साड़ी का पल्लू धरे, चली लजाती सास (कुंडलिया)*
*साड़ी का पल्लू धरे, चली लजाती सास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चक्रव्यूह की राजनीति
चक्रव्यूह की राजनीति
Dr Parveen Thakur
शिव आराध्य राम
शिव आराध्य राम
Pratibha Pandey
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
Amit Pathak
जय बोलो मानवता की🙏
जय बोलो मानवता की🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...