Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2022 · 1 min read

बिजलियों का दौर

खौफ आंखों के सभी ढलने लगे
सब नई राहों पे अब चलने लगे
बिजलियों का दौर है अरशद रसूल
आंधियों में अब दिये जलने लगे

Language: Hindi
2 Likes · 218 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
Paras Nath Jha
नैतिक मूल्यों को बचाए अब कौन
नैतिक मूल्यों को बचाए अब कौन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2) भीड़
2) भीड़
पूनम झा 'प्रथमा'
*
*"रोटी"*
Shashi kala vyas
प्रभु भक्ति में सदा डूबे रहिए
प्रभु भक्ति में सदा डूबे रहिए
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कोई खुशबू
कोई खुशबू
Surinder blackpen
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शब्दों की रखवाली है
शब्दों की रखवाली है
Suryakant Dwivedi
अपनी सूरत
अपनी सूरत
Dr fauzia Naseem shad
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
एक नासूर हो ही रहा दूसरा ज़ख्म फिर खा लिया।
ओसमणी साहू 'ओश'
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
#सत्यान्वेषण_समय_की_पुकार
#सत्यान्वेषण_समय_की_पुकार
*प्रणय प्रभात*
कहा किसी ने आ मिलो तो वक्त ही नही मिला।।
कहा किसी ने आ मिलो तो वक्त ही नही मिला।।
पूर्वार्थ
डॉ. नामवर सिंह की रसदृष्टि या दृष्टिदोष
डॉ. नामवर सिंह की रसदृष्टि या दृष्टिदोष
कवि रमेशराज
जी20
जी20
लक्ष्मी सिंह
लैला लैला
लैला लैला
Satish Srijan
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
Rekha Drolia
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
अयोध्या
अयोध्या
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
**** फागुन के दिन आ गईल ****
**** फागुन के दिन आ गईल ****
Chunnu Lal Gupta
सीख
सीख
Sanjay ' शून्य'
मेरी कलम
मेरी कलम
Shekhar Chandra Mitra
जब दादा जी घर आते थे
जब दादा जी घर आते थे
VINOD CHAUHAN
23/45.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/45.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
Ashok deep
Acrostic Poem- Human Values
Acrostic Poem- Human Values
jayanth kaweeshwar
उपकार माईया का
उपकार माईया का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आक्रोश तेरे प्रेम का
आक्रोश तेरे प्रेम का
भरत कुमार सोलंकी
डायरी मे लिखे शब्द निखर जाते हैं,
डायरी मे लिखे शब्द निखर जाते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...