Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Dec 2023 · 1 min read

बिछ गई चौसर चौबीस की,सज गई मैदान-ए-जंग

बिछ गई चौसर चौबीस की,सज गई मैदान-ए-जंग
सेमीफाइनल देखकर, सभी विपक्षी दंग
सभी विपक्षी दंग, सबने मुंह की खाई
मोदी मैजिक फिर चला, हैट्रिक फिर से लगाई
जीत लिया छत्तीसगढ़, जीता मध्य प्रदेश
राजस्थान ने कह दिया, फिर जीतेगा देश
जाति पाति अगड़े पिछड़े,न धर्म की घुट्टी भाई
समझदार जनता ने,कर दी सबकी सफाई
जनता नहीं आती वादों में, काम देखकर चुनती है
कौन है अच्छा कौन बुरा, अपने दिल में गुनती है
बातें सबकी सुनती है, फिर सर्वश्रेष्ठ को चुनती है
कौन है शुभ और कौन पनौती, अच्छे-अच्छों को धुनती है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
203 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
श्री राम अमृतधुन भजन
श्री राम अमृतधुन भजन
Khaimsingh Saini
आचार्य शुक्ल के उच्च काव्य-लक्षण
आचार्य शुक्ल के उच्च काव्य-लक्षण
कवि रमेशराज
#आज_की_बात
#आज_की_बात
*Author प्रणय प्रभात*
क्या अब भी तुम न बोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
Rekha Drolia
कुण्डलिया-मणिपुर
कुण्डलिया-मणिपुर
दुष्यन्त 'बाबा'
*हूँ कौन मैं*
*हूँ कौन मैं*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"आपदा"
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक... छंद हंसगति
मुक्तक... छंद हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
3258.*पूर्णिका*
3258.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक साँझ
एक साँझ
Dr.Pratibha Prakash
बाल कहानी- डर
बाल कहानी- डर
SHAMA PARVEEN
17- राष्ट्रध्वज हो सबसे ऊँचा
17- राष्ट्रध्वज हो सबसे ऊँचा
Ajay Kumar Vimal
सोच
सोच
Neeraj Agarwal
हम वीर हैं उस धारा के,
हम वीर हैं उस धारा के,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हकीकत
हकीकत
dr rajmati Surana
*वही पुरानी एक सरीखी, सबकी रामकहानी (गीत)*
*वही पुरानी एक सरीखी, सबकी रामकहानी (गीत)*
Ravi Prakash
It is necessary to explore to learn from experience😍
It is necessary to explore to learn from experience😍
Sakshi Tripathi
सांसों का थम जाना ही मौत नहीं होता है
सांसों का थम जाना ही मौत नहीं होता है
Ranjeet kumar patre
💐प्रेम कौतुक-176💐
💐प्रेम कौतुक-176💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
तेरा हम पर कहां
तेरा हम पर कहां
Dr fauzia Naseem shad
नई उम्मीद
नई उम्मीद
Pratibha Pandey
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
बुंदेली दोहा -तर
बुंदेली दोहा -तर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
क्यों पढ़ा नहीं भूगोल?
क्यों पढ़ा नहीं भूगोल?
AJAY AMITABH SUMAN
बचा ले मुझे🙏🙏
बचा ले मुझे🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
ruby kumari
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
*जीवन में हँसते-हँसते चले गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
करीब हो तुम मगर
करीब हो तुम मगर
Surinder blackpen
Loading...