Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2023 · 1 min read

बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।

साहिलों को पाने की चाह में तूफां से हम टकरा गए,
खुशियाँ जो किस्तों में आती थी, उसे भी गवां गए।
थी चाहत की मरुभूमि में, एक पल की छाँव मिले,
उस चाहत में, अपनी मृगतृष्णा को भी गवां गए।
बारिशों में कभी आँखें, जो रोया करती थी,
चोट नये ऐसे मिले कि, आँसुओं को भी गवां गए।
एक सपने में, घर की दीवारें थीं दिखीं,
उस सपने की रुस्वाई में, शहर भी हम गवां गए।
सुबह की ख्वाहिश ने, रात भर जगा कर रखा,
उस सुबह की बेवफ़ाई थी ऐसी, कि रातें भी हम गवां गए।
वादों की चाभियां जो, हाथों ने थामी थी कभी,
तालों की खुदगर्जी में, वो चाभियां भी हम गवां गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा,
खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।

3 Likes · 151 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
यूं ही कुछ लिख दिया था।
यूं ही कुछ लिख दिया था।
Taj Mohammad
लफ्ज़ों की जिद्द है कि
लफ्ज़ों की जिद्द है कि
Shwet Kumar Sinha
Plastic Plastic Everywhere.....
Plastic Plastic Everywhere.....
R. H. SRIDEVI
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
आबूधाबी में हिंदू मंदिर
Ghanshyam Poddar
*समझो बैंक का खाता (मुक्तक)*
*समझो बैंक का खाता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
* खुशियां मनाएं *
* खुशियां मनाएं *
surenderpal vaidya
If you do things the same way you've always done them, you'l
If you do things the same way you've always done them, you'l
Vipin Singh
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
शेखर सिंह
सूना आज चमन...
सूना आज चमन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
THE MUDGILS.
THE MUDGILS.
Dhriti Mishra
सम्भव नहीं ...
सम्भव नहीं ...
SURYA PRAKASH SHARMA
बदले नहीं है आज भी लड़के
बदले नहीं है आज भी लड़के
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
धैर्य धरोगे मित्र यदि, सब कुछ होता जाय
धैर्य धरोगे मित्र यदि, सब कुछ होता जाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं तो अंहकार आँव
मैं तो अंहकार आँव
Lakhan Yadav
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"नामुमकिन"
Dr. Kishan tandon kranti
कविता: स्कूल मेरी शान है
कविता: स्कूल मेरी शान है
Rajesh Kumar Arjun
2829. *पूर्णिका*
2829. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भ्रम
भ्रम
Dr.Priya Soni Khare
फ़ितरत
फ़ितरत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चुनाव 2024
चुनाव 2024
Bodhisatva kastooriya
पश्चाताप
पश्चाताप
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अभिसप्त गधा
अभिसप्त गधा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
Deepak Baweja
दिल से निकले हाय
दिल से निकले हाय
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
सदा दूर रहो गम की परछाइयों से,
सदा दूर रहो गम की परछाइयों से,
Ranjeet kumar patre
"मलाईदार विभागों की खुली मांग और बिना शर्त समर्थन के दावे...
*प्रणय प्रभात*
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
Harminder Kaur
औरों की खुशी के लिए ।
औरों की खुशी के लिए ।
Buddha Prakash
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...