Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)

फूल भी हो
तुम आग भी हो
इश्क़ भी हो
तुम इंकलाब भी हो…
(१)
ख़ुद में एक
तुम सवाल भी हो
हर सवाल का
तुम ज़वाब भी हो…
(२)
कहां छोड़ूं
तुम्हें कहां पढ़ूं
ज़िंदगी भी हो
तुम किताब भी हो…
(३)
क़रीब आकर
तुम्हारे समझा
चुप्पी ही नहीं,
तुम आवाज़ भी हो…
(४)
बैठ जाओ तो
बस पिंजरा
उड़ जाओ तो
तुम परवाज़ भी हो…
(५)
जिस्म से हो
चाहे बंधन में
लेकिन सोच से
तुम आज़ाद भी हो…
(६)
इस बीमार
दुनिया के लिए
ऐ बिंते-हव्वा,
तुम इलाज़ भी हो…
#शायर
#शेखर_चंद्र_मित्रा
#औरत #स्त्री #लड़की #Freedom
#प्रेम #क्रांति #विद्रोही #educacion
#woman #Girls #equality #हक
#शिक्षा #साहस #स्वावलंबन #प्रतिभा
#परिश्रम #धैर्य #नारी_मुक्ति #आजादी
#mydreamoflove #dreamgirl
#हव्वा_की_बेटी #स्त्री_विमर्श #बगावत

Language: Hindi
45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जुनून
जुनून
अखिलेश 'अखिल'
ईश्वर के नाम पत्र
ईश्वर के नाम पत्र
Indu Singh
■चंदे का धंधा■
■चंदे का धंधा■
*प्रणय प्रभात*
*जूते चोरी होने का दुख (हास्य व्यंग्य)*
*जूते चोरी होने का दुख (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
"अचरज"
Dr. Kishan tandon kranti
धमकियां शुरू हो गई
धमकियां शुरू हो गई
Basant Bhagawan Roy
हमे अब कहा फिक्र जमाने की है
हमे अब कहा फिक्र जमाने की है
पूर्वार्थ
2607.पूर्णिका
2607.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
" खामोशी "
Aarti sirsat
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
rubichetanshukla 781
वोट कर!
वोट कर!
Neelam Sharma
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गुमनाम 'बाबा'
बेटी
बेटी
Neeraj Agarwal
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
अमर शहीद स्वामी श्रद्धानंद
कवि रमेशराज
A heart-broken Soul.
A heart-broken Soul.
Manisha Manjari
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
समंदर
समंदर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
“परिंदे की अभिलाषा”
“परिंदे की अभिलाषा”
DrLakshman Jha Parimal
मुस्कानों पर दिल भला,
मुस्कानों पर दिल भला,
sushil sarna
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
* बाल विवाह मुक्त भारत *
* बाल विवाह मुक्त भारत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*मधु मालती*
*मधु मालती*
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
मन-गगन!
मन-गगन!
Priya princess panwar
जानते वो भी हैं...!!
जानते वो भी हैं...!!
Kanchan Khanna
!..................!
!..................!
शेखर सिंह
प्रेम पथ का एक रोड़ा 🛣️🌵🌬️
प्रेम पथ का एक रोड़ा 🛣️🌵🌬️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बिछड़ना जो था हम दोनों को कभी ना कभी,
बिछड़ना जो था हम दोनों को कभी ना कभी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
STABILITY
STABILITY
SURYA PRAKASH SHARMA
Loading...