Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2023 · 1 min read

बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,

बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
दिल के एहसास, रिश्तों की जान होती है।
सच ही कहते हैं लोग, अच्छे समय में नहीं,
मुसीबत में ही अपनों की पहचान होती है।।

-लोकनाथ ताण्डेय’मधुर’

1 Like · 667 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आए हैं रामजी
आए हैं रामजी
SURYA PRAKASH SHARMA
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
satish rathore
होली
होली
Mukesh Kumar Sonkar
सब्र रखो सच्च है क्या तुम जान जाओगे
सब्र रखो सच्च है क्या तुम जान जाओगे
VINOD CHAUHAN
मुल्क़ में अब
मुल्क़ में अब
*प्रणय प्रभात*
नवगीत - बुधनी
नवगीत - बुधनी
Mahendra Narayan
भीगते हैं फिर एक बार चलकर बारिश के पानी में
भीगते हैं फिर एक बार चलकर बारिश के पानी में
इंजी. संजय श्रीवास्तव
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
Radhakishan R. Mundhra
Destiny's epic style.
Destiny's epic style.
Manisha Manjari
हार नहीं, हौसले की जीत
हार नहीं, हौसले की जीत
पूर्वार्थ
2781. *पूर्णिका*
2781. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गमले में पेंड़
गमले में पेंड़
Mohan Pandey
सुबह-सुबह की बात है
सुबह-सुबह की बात है
Neeraj Agarwal
दोहा छंद विधान ( दोहा छंद में )
दोहा छंद विधान ( दोहा छंद में )
Subhash Singhai
"किस बात का गुमान"
Ekta chitrangini
मित्र होना चाहिए
मित्र होना चाहिए
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
हंसते हुए तेरे चेहरे ये बहुत ही खूबसूरत और अच्छे लगते है।
हंसते हुए तेरे चेहरे ये बहुत ही खूबसूरत और अच्छे लगते है।
Rj Anand Prajapati
आखिरी मोहब्बत
आखिरी मोहब्बत
Shivkumar barman
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
Harminder Kaur
सात फेरे
सात फेरे
Dinesh Kumar Gangwar
हमें जीना सिखा रहे थे।
हमें जीना सिखा रहे थे।
Buddha Prakash
"कलम का संसार"
Dr. Kishan tandon kranti
सुरमई शाम का उजाला है
सुरमई शाम का उजाला है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हिम्मत कभी न हारिए
हिम्मत कभी न हारिए
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
उल्लू नहीं है पब्लिक जो तुम उल्लू बनाते हो, बोल-बोल कर अपना खिल्ली उड़ाते हो।
उल्लू नहीं है पब्लिक जो तुम उल्लू बनाते हो, बोल-बोल कर अपना खिल्ली उड़ाते हो।
Anand Kumar
ओ जोगी ध्यान से सुन अब तुझको मे बतलाता हूँ।
ओ जोगी ध्यान से सुन अब तुझको मे बतलाता हूँ।
Anil chobisa
*तपसी वेश सिया का पाया (कुछ चौपाइयॉं)*
*तपसी वेश सिया का पाया (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
प्रशांत सोलंकी
प्रशांत सोलंकी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
परफेक्ट बनने के लिए सबसे पहले खुद में झांकना पड़ता है, स्वयं
परफेक्ट बनने के लिए सबसे पहले खुद में झांकना पड़ता है, स्वयं
Seema gupta,Alwar
Loading...