Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2024 · 3 min read

बासी रोटी…… एक सच

आप और हम जीवन के सच में हम सभी ने बासी रोटी खायी हैं। भला ही हमने दो-चार बार न खाकर भला ही एक दो बार खाई हो। हम सभी बासी रोटी का महत्व जानते हैं क्योंकि बासी रोटी वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी बहुत महत्वपूर्ण और विटामिन युक्त होती है। आप और हम जीवन के सच में बासी रोटी को एक आर्थिक और सामाजिक स्तर पर तुलना ना करें क्योंकि जीवन में आर्थिक और सामाजिक स्तर तो बहुत होते हैं। बासी रोटी का अपना अलग महत्व आओ पढ़ते हैं बासी रोटी……..
एक गांव में एक परिवार रहता था वह परिवार में केवल एक बूढी मां और उसका एक बेटा था। बेटा रोज सुबह अपने काम पर जाता था और उसकी बुढ़ी मां से सुबह सुबह उठकर काम न हो पाता था। इस तरह परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत खराब थी और जो काम लेते थे वही दोनों मां बेटा गुजार बसर कर खा लेते थे। परंतु बूढी मां का बेटा राजन बहुत ही समझदार था और उसे अपने पिता के देहांत के बाद घर की स्थिति उसके पिता की बीमारी में खर्च हुए धन से और भी बिगड़ गई थी और उसकी बुढ़ी मां बहुत लाचार थी।
सच तो यही हैं कि बासी रोटी भी अपने जीवन का एक सच होता हैं हम सभी समय के साथ-साथ जीवन जीते हैं। और ऐसा ही हाल कुछ बूढी मां के बेटे राजन का था और वह रोज सुबह उठकर खाली पेट अपनी नौकरी पर निकल जाता था और दोपहर में आकर खाना खाता और अपनी मां को भी खिलाता था। जीवन के दिन इसी तरह दिनचर्या से गुजर रहे थे बस समय की बात है कि दिमाग में कोई आईडिया या विचार नहीं आ रहा था राजन अपने दोस्तों के घर ऐसे ही बैठा था और बातों बातों में उसने अपने दोस्तों से कहा कि यार सुबह-सुबह खाली पेट हमें घर से कम पर जाना पड़ता है तब उसके दोस्तों ने उसे सलाह दी अरे भाई तू सुबह-सुबह खाली पेट क्यों जावे तेरी मां से कम ना हो वह बूढ़ी मां हैं।
दोस्तों ने उसे सलाह दी कि तेरे मन में एक विचार ना आया की जीवन में बासी रोटी का भी बहुत महत्व होता है। जीवन में हम सभी को किसी न किसी प्रकार से समझौता करना पड़ता है और हम सभी जिंदगी और जीवन मन भावों में सोच बनाकर जीवन जीते हैं। और सभी की आर्थिक स्थिति कहीं ना कहीं समय के अनुसार बनती और बिगड़ती रहती है। राजन भाई तू हमारा दोस्त है और हम चाहते हैं दोस्त ही दोस्त को अच्छी राह दिखाते हैं तू रात को खाना खुद बनाता तो है तब दो चार रोटी ज्यादा बना कर रख दिया कर और सुबह-सुबह बासी रोटी खाकर अपने काम पर चले जा और समय के साथ-साथ बासी रोटी का महत्व भी तुझे मालूम चल जाएगा क्योंकि हम सभी जीवन के आकर्षण और दिखावे में जीते हैं जबकि सच तो जीवन में कुछ भी नहीं है सभी को एक ही समय की राह से गुजरना पड़ता है।
राजन बासी रोटी का महत्व समझकर और दोस्तों फिर विदा लेकर अपने घर पहुंच जाता है और मां को भी खाना खिलाता है और चार रोटी बनाकर सुबह काम पर जाने के लिए रख देता है। और बासी रोटी सुबह खाकर राजन अपने काम पर खुशी-खुशी जा रहा होता है और उसकी बुढ़ी मां के मन को भी सब्र रहता है कि मेरा बेटा आज खा कर जा रहा है। जीवन में विचार और आइडिया एक महत्वपूर्ण राह होती है। और बासी रोटी का महत्व समझते हुए राजन अपनी साइकिल से अपने काम की ओर चला जा रहा था।
***************************************

नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्यार है नही
प्यार है नही
SHAMA PARVEEN
ग़म बहुत है दिल में मगर खुलासा नहीं होने देता हूंI
ग़म बहुत है दिल में मगर खुलासा नहीं होने देता हूंI
शिव प्रताप लोधी
"" *आओ बनें प्रज्ञावान* ""
सुनीलानंद महंत
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
प्रेम हैं अनन्त उनमें
प्रेम हैं अनन्त उनमें
The_dk_poetry
मेरी कविताएं पढ़ लेना
मेरी कविताएं पढ़ लेना
Satish Srijan
****शीतल प्रभा****
****शीतल प्रभा****
Kavita Chouhan
عيشُ عشرت کے مکاں
عيشُ عشرت کے مکاں
अरशद रसूल बदायूंनी
वो खुशनसीब थे
वो खुशनसीब थे
Dheerja Sharma
लोग आपके प्रसंसक है ये आपकी योग्यता है
लोग आपके प्रसंसक है ये आपकी योग्यता है
Ranjeet kumar patre
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
नवरात्र के सातवें दिन माँ कालरात्रि,
Harminder Kaur
हिंदी भारत की पहचान
हिंदी भारत की पहचान
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
manjula chauhan
जाकर वहाँ मैं क्या करुँगा
जाकर वहाँ मैं क्या करुँगा
gurudeenverma198
तेरी यादें बजती रहती हैं घुंघरूओं की तरह,
तेरी यादें बजती रहती हैं घुंघरूओं की तरह,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
कभी कभी मौन रहने के लिए भी कम संघर्ष नहीं करना पड़ता है।
Paras Nath Jha
■ सच साबित हुआ अनुमान।
■ सच साबित हुआ अनुमान।
*प्रणय प्रभात*
शहर की बस्तियों में घोर सन्नाटा होता है,
शहर की बस्तियों में घोर सन्नाटा होता है,
Abhishek Soni
"बेजुबान"
Pushpraj Anant
* गीत कोई *
* गीत कोई *
surenderpal vaidya
*खुद को  खुदा  समझते लोग हैँ*
*खुद को खुदा समझते लोग हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
कवि दीपक बवेजा
चलना है मगर, संभलकर...!
चलना है मगर, संभलकर...!
VEDANTA PATEL
(12) भूख
(12) भूख
Kishore Nigam
जीवन से पहले या जीवन के बाद
जीवन से पहले या जीवन के बाद
Mamta Singh Devaa
*वर्ष दो हजार इक्कीस (छोटी कहानी))*
*वर्ष दो हजार इक्कीस (छोटी कहानी))*
Ravi Prakash
"दो नावों पर"
Dr. Kishan tandon kranti
हाथी के दांत
हाथी के दांत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जियो जी भर
जियो जी भर
Ashwani Kumar Jaiswal
23/199. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/199. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...