Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Mar 2024 · 1 min read

*बाल गीत (मेरा मन)*

बाल गीत (मेरा मन)

मेरा प्यारा मन कहता है।
कुछ खाने का मन करता है।।
क्या खाना है पता नहीं है ?
याद किसी की सता रही है।।

मेरा साथी बुला रहा है।
कई दफा से बोल रहा है।।
आज उसी के घर जाना है।
मीठा मीठा कुछ खाना है।।

मुझको पा कर वह होगा खुश।
क्या जाने पर होगा नाखुश??
नहीं नहीं ऐसा सोचो मत।
मेरा साथी अति सुन्दर सत।।

मेरा साथी सबसे अच्छा।
है कोई क्या उससे अच्छा??
नहीं नहीं, वह सबसे उत्तम।
सबसे सुन्दर वह है अनुपम।।

साहित्यकार ऋतुराज वर्मा

38 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
Subhash Singhai
बड़े भाग मानुष तन पावा
बड़े भाग मानुष तन पावा
आकांक्षा राय
नदी से जल सूखने मत देना, पेड़ से साख गिरने मत देना,
नदी से जल सूखने मत देना, पेड़ से साख गिरने मत देना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
राह दिखा दो मेरे भगवन
राह दिखा दो मेरे भगवन
Buddha Prakash
"अमीर खुसरो"
Dr. Kishan tandon kranti
डर
डर
Neeraj Agarwal
कर लो चाहे जो जतन, नहीं गलेगी दाल
कर लो चाहे जो जतन, नहीं गलेगी दाल
Ravi Prakash
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
Priya princess panwar
दुनियाँ में सबने देखा अपना महान भारत।
दुनियाँ में सबने देखा अपना महान भारत।
सत्य कुमार प्रेमी
गंणपति
गंणपति
Anil chobisa
15, दुनिया
15, दुनिया
Dr Shweta sood
मच्छर
मच्छर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
तुम्हारी आँख से जब आँख मिलती है मेरी जाना,
तुम्हारी आँख से जब आँख मिलती है मेरी जाना,
SURYA PRAKASH SHARMA
हो रही है ये इनायतें,फिर बावफा कौन है।
हो रही है ये इनायतें,फिर बावफा कौन है।
पूर्वार्थ
खुद को कभी न बदले
खुद को कभी न बदले
Dr fauzia Naseem shad
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
वज़्न - 2122 1212 22/112 अर्कान - फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन/फ़इलुन बह्र - बहर-ए-ख़फ़ीफ़ मख़बून महज़ूफ मक़तूअ काफ़िया: आ स्वर की बंदिश रदीफ़ - न हुआ
वज़्न - 2122 1212 22/112 अर्कान - फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन/फ़इलुन बह्र - बहर-ए-ख़फ़ीफ़ मख़बून महज़ूफ मक़तूअ काफ़िया: आ स्वर की बंदिश रदीफ़ - न हुआ
Neelam Sharma
शिव स्तुति महत्व
शिव स्तुति महत्व
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कत्ल खुलेआम
कत्ल खुलेआम
Diwakar Mahto
#सच_स्वीकार_करें.....
#सच_स्वीकार_करें.....
*प्रणय प्रभात*
The Lost Umbrella
The Lost Umbrella
R. H. SRIDEVI
2576.पूर्णिका
2576.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मनी प्लांट
मनी प्लांट
कार्तिक नितिन शर्मा
मेरी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा इनाम हो तुम l
मेरी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा इनाम हो तुम l
Ranjeet kumar patre
हर बात हर शै
हर बात हर शै
हिमांशु Kulshrestha
पल
पल
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
किसी विमर्श के लिए विवादों की जरूरत खाद की तरह है जिनके ज़रि
Dr MusafiR BaithA
हीर और रांझा की हम तस्वीर सी बन जाएंगे
हीर और रांझा की हम तस्वीर सी बन जाएंगे
Monika Arora
पूरा पूरा हिसाब है जनाब
पूरा पूरा हिसाब है जनाब
shabina. Naaz
शिव ही बनाते हैं मधुमय जीवन
शिव ही बनाते हैं मधुमय जीवन
कवि रमेशराज
Loading...