Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2023 · 2 min read

बाल कहानी- डर

बालकहानी- डर
———-

प्राथमिक विद्यालय में पूजा नाम की होनहार छात्रा कक्षा पाँच में पढ़ती थी। वह पढ़ने लिखने में अच्छी थी, परन्तु उसकी एक बहुत बड़ी कमी थी, वह प्रतियोगिता के नाम पर परेशान हो जाती थी। पूजा वैसे तो विद्यालय में अनुपस्थित नहीं रहती थी,परन्तु टेस्ट या प्रतियोगिता की सूचना मिलते ही विद्यालय नहीं जाती थी।
सोमवार का दिन था। पूजा खुशी-खुशी विद्यालय गयी, परन्तु जैसे ही उसे पता चला कि कल हिन्दी में टेस्ट है, वह हर बार की तरह विद्यालय नहीं गयी।
बुधवार को जब पूजा विद्यालय पहुँची तो अध्यापिका ने बहुत प्यार से पूजा को अपने पास बुलाया और टेस्ट में अनुपस्थित होने का कारण पूछा। पूजा ने बताया-, “मैम! जी मुझे टेस्ट और प्रतियोगिता के नाम से बहुत घबराहट होती है। कहीं हम असफल न हो जाये, इसकी चिन्ता रहती है।”
अध्यापिका ने पूजा का डर दूर करने में उसकी मदद की और पूजा से टेस्ट ले लिया।
पूजा को पहले घबराहट हुई, फिर पूजा ने अपने डर पर काबू पाया।
और अखिरकार पूजा हिन्दी के टेस्ट में सफ़ल हो गयी। पूजा की लगन और मेहनत देख कर अध्यापिका ने पूजा को इनाम दिया। पूजा इनाम पाकर बहुत खुश हुई। उसका हौसला बढ़ा। अब पूजा को टेस्ट और प्रतियोगिता के नाम पर डर नहीं लगता बल्कि पूजा को टेस्ट और प्रतियोगिता का इन्तजार रहता है कि कैसे वह टेस्ट और प्रतियोगिता में सफल हो और अध्यापिका द्वारा उसे इनाम और प्रोत्साहन मिले।

शिक्षा
हमें जीवन में कभी भी किसी भी प्रकार की चुनौतियों से घबराना नहीं चाहिए।

शमा परवीन बहराइच, उत्तर प्रदेश

1 Like · 175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्य यह भी
सत्य यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
छठ पूजा
छठ पूजा
Satish Srijan
कहां से कहां आ गए हम....
कहां से कहां आ गए हम....
Srishty Bansal
*केले खाता बंदर (बाल कविता)*
*केले खाता बंदर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
66
66
*प्रणय प्रभात*
लफ्जों के जाल में उलझा है दिल मेरा,
लफ्जों के जाल में उलझा है दिल मेरा,
Rituraj shivem verma
पुस्तकें
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
# कुछ देर तो ठहर जाओ
# कुछ देर तो ठहर जाओ
Koमल कुmari
काव्य
काव्य
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
ले चल साजन
ले चल साजन
Lekh Raj Chauhan
2843.*पूर्णिका*
2843.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
Dr Tabassum Jahan
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
VINOD CHAUHAN
Plastic Plastic Everywhere.....
Plastic Plastic Everywhere.....
R. H. SRIDEVI
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"बेमानी"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहे-बच्चे
दोहे-बच्चे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विश्वपर्यावरण दिवस पर -दोहे
विश्वपर्यावरण दिवस पर -दोहे
डॉक्टर रागिनी
आंसूओं की नमी का क्या करते
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
जो दिल में उभरती है उसे, हम कागजों में उतार देते हैं !
जो दिल में उभरती है उसे, हम कागजों में उतार देते हैं !
DrLakshman Jha Parimal
रचो महोत्सव
रचो महोत्सव
लक्ष्मी सिंह
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
Stuti tiwari
कमाई / MUSAFIR BAITHA
कमाई / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
पूर्वार्थ
हुआ दमन से पार
हुआ दमन से पार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
ओनिका सेतिया 'अनु '
दूर देदो पास मत दो
दूर देदो पास मत दो
Ajad Mandori
चुप रहना भी तो एक हल है।
चुप रहना भी तो एक हल है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
फूलों से हँसना सीखें🌹
फूलों से हँसना सीखें🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तेरे हम है
तेरे हम है
Dinesh Kumar Gangwar
Loading...