Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2022 · 1 min read

बाल कविता हिन्दी वर्णमाला

:बाल कविता हिन्दी वर्णमाला
**********************
क से कबूतर, ख से खरगोश,
देना कभी न किसी को दोष।

ग से गमला, घ से होता है घर,
मिले सबको अपना पक्का घर।

च से चम्मच छः से है छतरी,
वर्षा धूप से रक्षा करे छतरी।

ज से जहाज़ झ से झंडा,
भारत का है तिरंगा झंडा।

ट से टमाटर,ठ से ठठेरा,
सारे बर्तन बनाए ठठेरा।

ड से डलिया, ढ से ढक्कन,
डलिया पे रखो तुम ढक्कन।

त से तरबूज,थ से होता थन,
गौ माता के होते है चार थन।

द से दवात,ध से होता धनुष,
श्री राम जी ने तोडा था धनुष।

न से है नल, नल से है पानी,
नल देता है सभी को पानी।

फ से फल,ब से है बत्तख,
पानी में तैरती है बत्तख।

य से यज्ञ, र से होता रथ,
आ गया हिंदी का ये रथ।

ल से लालटेन,व से होता वजन,
कभी बढ़ाओ, न अपना वजन।

ष से षटकोंन, श से है शलजम,
आज बनानी है मूली शलजम।

स से सवार है, ह से है हथौड़ा,
घोड़े की दुम पर मारा हथौड़ा।

क्ष से है क्षत्रिय,त्रि से त्रिशूल,
शिव शंकर रखते है त्रिशूल।

ज्ञ से ज्ञानी,श्र से होता श्रम,
करते रहो जीवन में श्रम।

पूरी हुई हिन्दी की वर्णमाला,
पहनो अब हिंदी का दुशाला।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

5 Likes · 5 Comments · 7534 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
स्वर्ग से सुन्दर
स्वर्ग से सुन्दर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भय आपको सत्य से दूर करता है, चाहे वो स्वयं से ही भय क्यों न
भय आपको सत्य से दूर करता है, चाहे वो स्वयं से ही भय क्यों न
Ravikesh Jha
जो समाज की बनाई व्यस्था पे जितना खरा उतरता है वो उतना ही सम्
जो समाज की बनाई व्यस्था पे जितना खरा उतरता है वो उतना ही सम्
Utkarsh Dubey “Kokil”
जिसे ये पता ही नहीं क्या मोहब्बत
जिसे ये पता ही नहीं क्या मोहब्बत
Ranjana Verma
2305.पूर्णिका
2305.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
Er. Sanjay Shrivastava
"निखार" - ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तुम्हारी छवि...
तुम्हारी छवि...
उमर त्रिपाठी
*कुकर्मी पुजारी*
*कुकर्मी पुजारी*
Dushyant Kumar
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
Satish Srijan
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
■ दोनों पहलू जीवन के।
■ दोनों पहलू जीवन के।
*Author प्रणय प्रभात*
Drapetomania
Drapetomania
Vedha Singh
* प्यार की बातें *
* प्यार की बातें *
surenderpal vaidya
"कभी-कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
लौट कर वक्त
लौट कर वक्त
Dr fauzia Naseem shad
दुआ को असर चाहिए।
दुआ को असर चाहिए।
Taj Mohammad
अंत समय
अंत समय
Vandna thakur
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
gurudeenverma198
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
सफलता
सफलता
Vandna Thakur
तुझमें : मैं
तुझमें : मैं
Dr.Pratibha Prakash
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
DrLakshman Jha Parimal
Love life
Love life
Buddha Prakash
Tapish hai tujhe pane ki,
Tapish hai tujhe pane ki,
Sakshi Tripathi
अरब खरब धन जोड़िये
अरब खरब धन जोड़िये
शेखर सिंह
मनमुटाव अच्छा नहीं,
मनमुटाव अच्छा नहीं,
sushil sarna
क्यों करते हो गुरुर अपने इस चार दिन के ठाठ पर
क्यों करते हो गुरुर अपने इस चार दिन के ठाठ पर
Sandeep Kumar
मेरा ब्लॉग अपडेट दिनांक 2 अक्टूबर 2023
मेरा ब्लॉग अपडेट दिनांक 2 अक्टूबर 2023
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"परीक्षा के भूत "
Yogendra Chaturwedi
Loading...