Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2023 · 1 min read

बाल कविता: मोटर कार

बाल कविता: मोटर कार
*******************

छोटा डिब्बा पहिये चार,
बैठे जिसमें पैर पसार।
सड़क पर दौड़े फर फर फर,
कहते इसको मोटर कार।।

एक ड्राइवर पांच सवारी
कुछ हल्की कुछ हैं भारी।
जिधर चाहो मुड़ जाती है,
हाथ मे हैंडिल और रफ्तार।।

अंधेरे में लाइट जलाए,
भीड़भाड़ में हॉर्न बजाए।
सबके काम मे आती है,
परिवार हो या सरकार।।

**********📚**********

स्वरचित कविता 📝
✍️रचनाकार:
राजेश कुमार अर्जुन

5 Likes · 418 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
दिल पर किसी का जोर नहीं होता,
Slok maurya "umang"
सत्ता में वापसी के बाद
सत्ता में वापसी के बाद
*प्रणय प्रभात*
रात स्वप्न में दादी आई।
रात स्वप्न में दादी आई।
Vedha Singh
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sakshi Tripathi
फिर वसंत आया फिर वसंत आया
फिर वसंत आया फिर वसंत आया
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
फिकर
फिकर
Dipak Kumar "Girja"
हम कितने नोट/ करेंसी छाप सकते है
हम कितने नोट/ करेंसी छाप सकते है
शेखर सिंह
अपने आमाल पे
अपने आमाल पे
Dr fauzia Naseem shad
"अतीत"
Dr. Kishan tandon kranti
बड्ड  मन करैत अछि  सब सँ संवाद करू ,
बड्ड मन करैत अछि सब सँ संवाद करू ,
DrLakshman Jha Parimal
फकीरी
फकीरी
Sanjay ' शून्य'
बूँद बूँद याद
बूँद बूँद याद
Atul "Krishn"
'बेटी की विदाई'
'बेटी की विदाई'
पंकज कुमार कर्ण
जो कर्म किए तूने उनसे घबराया है।
जो कर्म किए तूने उनसे घबराया है।
सत्य कुमार प्रेमी
SAARC Summit to be held in Nepal on 05 May, dignitaries to be honoured
SAARC Summit to be held in Nepal on 05 May, dignitaries to be honoured
World News
झूठी शान
झूठी शान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जनता को तोडती नही है
जनता को तोडती नही है
Dr. Mulla Adam Ali
हाथ में उसके हाथ को लेना ऐसे था
हाथ में उसके हाथ को लेना ऐसे था
Shweta Soni
ढ़ूंढ़ रहे जग में कमी
ढ़ूंढ़ रहे जग में कमी
लक्ष्मी सिंह
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
भेड़ चालों का रटन हुआ
भेड़ चालों का रटन हुआ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तुम शायद मेरे नहीं
तुम शायद मेरे नहीं
Rashmi Ranjan
उल्लू नहीं है पब्लिक जो तुम उल्लू बनाते हो, बोल-बोल कर अपना खिल्ली उड़ाते हो।
उल्लू नहीं है पब्लिक जो तुम उल्लू बनाते हो, बोल-बोल कर अपना खिल्ली उड़ाते हो।
Anand Kumar
जून की दोपहर
जून की दोपहर
Kanchan Khanna
जख्म पाने के लिए ---------
जख्म पाने के लिए ---------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
रिश्ते चाय की तरह छूट रहे हैं
रिश्ते चाय की तरह छूट रहे हैं
Harminder Kaur
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
पग-पग पर हैं वर्जनाएँ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
*
*"हिंदी"*
Shashi kala vyas
*हे तात*
*हे तात*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...