Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2024 · 1 min read

बाल कविता: चूहा

बाल कविता: चूहा

घर में आता मोटा चूहा,
मुंह में दाना खाता चूहा,
चमके आँखे मोटी मोटी,
लम्बी पूँछ हिलाता चूहा।

नुकीले दांत छोटे कान,
कुतरे कपडे करे नुकसान,
जूते काटे बिस्तर काटे,
सबको खूब सताता चूहा।

इधर उधर है दौड़ा फिरता,
नाली और गड्ढे में गिरता,
जब भी दिखती बिल्ली मौसी,
झट बिल में घुस जाता चूहा।

चूहा दान मां लेकर आई,
मक्खन रोटी उसमे लगाई,
सूंघी रोटी आया लालच,
जाल में फंस जाता चूहा।

*********📚*********
स्वरचित कविता 📝
✍️रचनाकार:
राजेश कुमार अर्जुन

2 Likes · 1 Comment · 148 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुश्मन से भी यारी रख। मन में बातें प्यारी रख। दुख न पहुंचे लहजे से। इतनी जिम्मेदारी रख। ।
दुश्मन से भी यारी रख। मन में बातें प्यारी रख। दुख न पहुंचे लहजे से। इतनी जिम्मेदारी रख। ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
औरत की अभिलाषा
औरत की अभिलाषा
Rachana
मित्रता तुम्हारी हमें ,
मित्रता तुम्हारी हमें ,
Yogendra Chaturwedi
चला मुरारी हीरो बनने ....
चला मुरारी हीरो बनने ....
Abasaheb Sarjerao Mhaske
सीख ना पाए पढ़के उन्हें हम
सीख ना पाए पढ़के उन्हें हम
The_dk_poetry
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
Dr अरुण कुमार शास्त्री
Dr अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आया पर्व पुनीत....
आया पर्व पुनीत....
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज्ञान का अर्थ
ज्ञान का अर्थ
ओंकार मिश्र
हमने भी ज़िंदगी को
हमने भी ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
"मां के यादों की लहर"
Krishna Manshi
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
Dheerja Sharma
खुशियों का बीमा
खुशियों का बीमा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नदी
नदी
नूरफातिमा खातून नूरी
ईर्ष्या
ईर्ष्या
Sûrëkhâ
सावन आया झूम के .....!!!
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
तूफान आया और
तूफान आया और
Dr Manju Saini
बहने दो निःशब्दिता की नदी में, समंदर शोर का मुझे भाता नहीं है
बहने दो निःशब्दिता की नदी में, समंदर शोर का मुझे भाता नहीं है
Manisha Manjari
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
उधार ....
उधार ....
sushil sarna
लक्ष्य
लक्ष्य
Sanjay ' शून्य'
विश्व पुस्तक दिवस पर
विश्व पुस्तक दिवस पर
Mohan Pandey
गुम है सरकारी बजट,
गुम है सरकारी बजट,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
Learn the things with dedication, so that you can adjust wel
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पिता
पिता
Shashi Mahajan
धर्म खतरे में है.. का अर्थ
धर्म खतरे में है.. का अर्थ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नमः शिवाय ।
नमः शिवाय ।
Anil Mishra Prahari
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
gurudeenverma198
"याद तुम्हारी आती है"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...