Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 30, 2016 · 1 min read

बारिश

बारिश में
बरसो बरस अपने ,
ख्वाबों की धनक,
खुद में समेटे,
मै चली जा रही थी,
कि अचानक से नज़र ठहर गयी,
हाथों से सब्र की पोटली फिसल गयी,
बीते वक्त ने चेहरा बदल
जब खुद को दोहराया,
मेरी मज़बूरी से आईना
फिर झुंझलाया,
मै नारी हूं,
न ये सच बदल पाया,
फिर आँचल से
मुहँ लपेट
मैंने आगे कदम बढाया,
आज भी यही कहानी है
बाहर जज्बातों की आंधी है,
कही तल्खियों की
बारिश है,
आज भी मेरे अरमा के मंका
की छत
य़ू ही टपक रही है,
मै नारी हूं,
जिसके वजूद की
दास्तान शून्य में सिमट रही है!
-रजनी

229 Views
You may also like:
✍️अग्निपथ...अग्निपथ...✍️
"अशांत" शेखर
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
લંબાવને 'તું' તારો હાથ 'મારા' હાથમાં...
Dr. Alpa H. Amin
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्या देखें हम...
सूर्यकांत द्विवेदी
ये मोहब्बत राज ना रहती है।
Taj Mohammad
साथ भी दूंगा नहीं यार मैं नफरत के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
“ THANKS नहि श्रेष्ठ केँ प्रणाम करू “
DrLakshman Jha Parimal
कायनात से दिल्लगी कर लो।
Taj Mohammad
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
मन की वेदना....
Dr. Alpa H. Amin
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit kumar
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
क्या करें हम भुला नहीं पाते तुम्हे
VINOD KUMAR CHAUHAN
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
स्मृति चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
दिल के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
मुस्की दे, प्रेमानुकरण कर लेता हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तुलसी
AMRESH KUMAR VERMA
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H. Amin
उसने ऐसा क्यों किया
Anamika Singh
मेरे दिल को जख्मी तेरी यादों ने बार बार किया
Krishan Singh
किताब।
Amber Srivastava
जातिगत जनगणना से कौन डर रहा है ?
Deepak Kohli
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम पर्यावरण को भूल रहे हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
Loading...