Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2023 · 1 min read

बारिश के गुण गाओ जी (बाल कविता)

बारिश के गुण गाओ जी (बाल कविता)
————————————
छम-छम-छम-छम पानी बरसा, बारिश के गुण गाओ जी
गरमा- गरम पकौड़ी खट्टी, चटनी के सॅंग खाओ जी

यह कुदरत का अजब नजारा, देख-देख हर्षाओ जी
बरस रही बारिश को सुनते, शहनाई-सी जाओ जी

सोचो किसने रची धरा यह, नभ पानी बरसाते हैं
परमपिता वह निश्चित ही है ,उसको शीश झुकाओ जी
———————————-
रचयिताः रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा रामपुर
मोबाइल 99976 15451

376 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
Surinder blackpen
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
मैं उसे अनायास याद आ जाऊंगा
मैं उसे अनायास याद आ जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
SHAMA PARVEEN
2759. *पूर्णिका*
2759. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रार्थना
प्रार्थना
Dr.Pratibha Prakash
एकांत में रहता हूँ बेशक
एकांत में रहता हूँ बेशक
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बाबू
बाबू
Ajay Mishra
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आज का मुक्तक
आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
* एक कटोरी में पानी ले ,चिड़ियों को पिलवाओ जी【हिंदी गजल/गीतिक
* एक कटोरी में पानी ले ,चिड़ियों को पिलवाओ जी【हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
बैगन के तरकारी
बैगन के तरकारी
Ranjeet Kumar
“ इन लोगों की बात सुनो”
“ इन लोगों की बात सुनो”
DrLakshman Jha Parimal
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
Paras Nath Jha
समझना है ज़रूरी
समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
पल का मलाल
पल का मलाल
Punam Pande
जी लगाकर ही सदा,
जी लगाकर ही सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
जब मैंने एक तिरंगा खरीदा
SURYA PRAKASH SHARMA
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Hum mom ki kathputali to na the.
Hum mom ki kathputali to na the.
Sakshi Tripathi
मां कुष्मांडा
मां कुष्मांडा
Mukesh Kumar Sonkar
"सपने"
Dr. Kishan tandon kranti
मन तो करता है मनमानी
मन तो करता है मनमानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
Shravan singh
नजराना
नजराना
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
अंध विश्वास एक ऐसा धुआं है जो बिना किसी आग के प्रकट होता है।
Rj Anand Prajapati
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
Sukoon
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मिलती बड़े नसीब से , अपने हक की धूप ।
मिलती बड़े नसीब से , अपने हक की धूप ।
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
गुरू शिष्य का संबन्ध
गुरू शिष्य का संबन्ध
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...