Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

“बारिश की बूँद “

मैं बारिश की बूँद हूँ ,
मेघों से बिछड़ कर,
बिखर जाती हूँ ,
गगन से दूर
धरती पर छा जाती हूँ
किसी की तपन मिटाती हूँ ,
किसी की प्यास बुझाती हूँ,
दरिया को भी चाह मेरी,
सागर की हूँ उम्मीद,
खेतों का सपना हूँ
किसानों की हूँ संगीत,
हाँ ,मैं हूँ बारिश की बूँद,
कहीं खुशियाँ लेकर आती हूँ
कहीं प्रलय लेकर आती हूँ
क्या करूँ बारिश की बूँद हूँ
कभी टूट कर बरसती हूँ
कभी बरस कर बिखर जाती हूँ .
…निधि…

2 Comments · 643 Views
You may also like:
दिल टूट करके।
Taj Mohammad
विचलित मन
AMRESH KUMAR VERMA
✍️जीवन की ऊर्जा है पिता...!✍️
"अशांत" शेखर
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
धीरे-धीरे कदम बढ़ाना
Anamika Singh
अल्फाज़ ए ताज भाग-5
Taj Mohammad
हमारें रिश्ते का नाम।
Taj Mohammad
विलुप्त होती हंसी
Dr Meenu Poonia
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
सिंधु का विस्तार देखो
surenderpal vaidya
मुकद्दर ने
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
दौर-ए-सफर
DESH RAJ
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कनिष्ठ रूप में
श्री रमण
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
मातृ रूप
श्री रमण
✍️जंग टल जाये तो बेहतर है✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Madhu Sethi
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
कहां जीवन है ?
Saraswati Bajpai
✍️झूठा सच✍️
"अशांत" शेखर
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्रेम
Rashmi Sanjay
धोखा
Anamika Singh
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
महेनतकश इंसान हैं ... नहीं कोई मज़दूर....
Dr. Alpa H. Amin
Loading...