Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2022 · 1 min read

बाबू जी

देखते हैं जब भी हम
काम में व्यस्त है बाबू जी
सुबह हो या शाम
आराम कभी करते नहीं बाबू जी

हो कोई खुशी की बात
सबसे पहले बताते हैं बाबू जी
परेशानियों से हमको
दूर ही रखते हैं बाबू जी

हमारे जीवन का सहारा है
हमारा हौसला है बाबू जी
मिल जाता है जो भी चाहिए
जादू की छड़ी है बाबू जी

इकठ्ठे रखता है जो परिवार को
वो चुंबक होते हैं बाबू जी
हो कोई भी मुसीबत रास्ते में तेरे
हमेशा साथ देते हैं बाबू जी

नाम रोशन करें उनका हम
बस यही चाहते हैं बाबू जी
जीवन में कुछ करके दिखाएं
यही दुआ करते हैं बाबू जी

करते हैं प्यार बहुत हमसे
जताते नहीं है बाबू जी
लग जाए कहीं चोट हमको
घबरा जाते हैं बाबू जी

है बस नारियल जैसे वो
बाहर से कड़क लगते हैं बाबू जी
है अंदर से मुलायम बहुत
गरी सरीखे लगते हैं बाबू जी

है तेरा वजूद उनसे ही
तुझमें अपना अक्स ढूंढते हैं बाबू जी
कभी अपने लिए नहीं जीते
हमेशा हमारे लिए ही जीते हैं बाबू जी।

Language: Hindi
8 Likes · 1 Comment · 1311 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
* चाह भीगने की *
* चाह भीगने की *
surenderpal vaidya
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
Rekha Drolia
"सृजन"
Dr. Kishan tandon kranti
....????
....????
शेखर सिंह
चल विजय पथ
चल विजय पथ
Satish Srijan
मानता हूँ हम लड़े थे कभी
मानता हूँ हम लड़े थे कभी
gurudeenverma198
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
Shweta Soni
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरी चाहत रही..
मेरी चाहत रही..
हिमांशु Kulshrestha
*किस्मत में यार नहीं होता*
*किस्मत में यार नहीं होता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
काश कि ऐसा होता....
काश कि ऐसा होता....
Ajay Kumar Mallah
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
इश्क की पहली शर्त
इश्क की पहली शर्त
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
2662.*पूर्णिका*
2662.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
मैं अपनी सेहत और तरक्की का राज तुमसे कहता हूं
मैं अपनी सेहत और तरक्की का राज तुमसे कहता हूं
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
Karishma Shah
Me and My Yoga Mat!
Me and My Yoga Mat!
R. H. SRIDEVI
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
The_dk_poetry
ରାତ୍ରିର ବିଳାପ
ରାତ୍ରିର ବିଳାପ
Bidyadhar Mantry
कहां  गए  वे   खद्दर  धारी  आंसू   सदा   बहाने  वाले।
कहां गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद
Subhash Singhai
मैं दुआ करता हूं तू उसको मुकम्मल कर दे,
मैं दुआ करता हूं तू उसको मुकम्मल कर दे,
Abhishek Soni
कविता जो जीने का मर्म बताये
कविता जो जीने का मर्म बताये
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अकेलापन
अकेलापन
भरत कुमार सोलंकी
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Manisha Manjari
//सुविचार//
//सुविचार//
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...