Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2022 · 1 min read

बाबूजी

बाबूजी

घर की बुनियादें ,घर की एक नींव थे बाबूजी

कुछ नही कहते न कभी ज्यादा हंसते चुप ही रहे बाबूजी

माँ का गुस्सा,हंसी ओर खनक थे बाबूजी।। हमेशा काम मे लगे रहते ,कभी अकेले बड़बड़ाते चलते रहते ,

ज्यादा बोलने पसन्द नही था उनको जब भी बोलते रुकते नही थे बाबूजी।।

जब कभी बाहर जाते सब के लिए कुछ लाते,कभी न भूलते बाबूजी

अहमदाबाद की मिठाई,हो या कलाकन्द,सब उठा
लाते बाबूजी।

खुद थे सख्त बहोत सबके लिए लेकिन दुसरो की सख्ती नापसन्द करते बाबूजी।।

सुबह उठकर बड़बड़ाते ,चलते फिरते बाबूजी।।

घड़ी की सुइयों में सुबह की प्रतीक्षा करते रहते,
फिर जल्दी उठकर अखबार ढूंढते बाबूजी ।।

बिन अखबार के चेन न लेते थे ,दरवाजे पर
उसकी एकटक राह देखते बाबूजी।।

उसके आते ही अखबार कसकर पकड़कर भाग
लेते थे बाबूजी।।

रोज की यही दिनचर्या थी उनकी खबरे पढ़कर ही
चेन पाते थे बाबूजी।।

नहा धोकर तैयार हो दफ्तर चल देते ,कभी न थकते थे बाबूजी।।

लौटकर घर अपने रोज नई कहानी कहते बाबूजी। इतनी बातें,इतने किस्से जाने कहा से लाते थे बाबूजी।

फिर एक अनंत यात्रा पर जाने क्यों चल दिये बाबूजी
गहरी नींद में सो गए अचानक ही सब छोड़

सब कहते रह गए बाबूजी ।कहा चल दिये बाबूजी।। ।।

कविता चौहान।।

Language: Hindi
1 Like · 537 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कतौता
कतौता
डॉ० रोहित कौशिक
3386⚘ *पूर्णिका* ⚘
3386⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"मां बनी मम्मी"
पंकज कुमार कर्ण
शब्द मधुर उत्तम  वाणी
शब्द मधुर उत्तम वाणी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"मन मेँ थोड़ा, गाँव लिए चल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
झुकता आसमां
झुकता आसमां
शेखर सिंह
कविता
कविता
Sushila joshi
रमेशराज के नवगीत
रमेशराज के नवगीत
कवि रमेशराज
विरह के दु:ख में रो के सिर्फ़ आहें भरते हैं
विरह के दु:ख में रो के सिर्फ़ आहें भरते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक फूल
एक फूल
अनिल "आदर्श"
"अ अनार से"
Dr. Kishan tandon kranti
कृष्ण दामोदरं
कृष्ण दामोदरं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*सोता रहता आदमी, आ जाती है मौत (कुंडलिया)*
*सोता रहता आदमी, आ जाती है मौत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेल
मेल
Lalit Singh thakur
दर्द -दर्द चिल्लाने से सूकून नहीं मिलेगा तुझे,
दर्द -दर्द चिल्लाने से सूकून नहीं मिलेगा तुझे,
Pramila sultan
नारी का अस्तित्व
नारी का अस्तित्व
रेखा कापसे
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अनमोल जीवन
अनमोल जीवन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
न पाने का गम अक्सर होता है
न पाने का गम अक्सर होता है
Kushal Patel
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
SPK Sachin Lodhi
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
■ जिसे जो समझना समझता रहे।
*Author प्रणय प्रभात*
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
दर्स ए वफ़ा आपसे निभाते चले गए,
ज़ैद बलियावी
ऐसे हंसते रहो(बाल दिवस पर)
ऐसे हंसते रहो(बाल दिवस पर)
gurudeenverma198
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
मॉडर्न किसान
मॉडर्न किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
मजा मुस्कुराने का लेते वही...
Sunil Suman
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
बदलती हवाओं की परवाह ना कर रहगुजर
VINOD CHAUHAN
संस्कार का गहना
संस्कार का गहना
Sandeep Pande
Loading...