Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2017 · 1 min read

बापूजी का आह्वान

धरती करूणा की प्यासी,बापूजी फिर से आना।
आकर के इस धरती का, सारा ताप मिटाना।

है दीन दशा दुखियों की, हीन हवा हो गयी है।
है भूखे रोते बच्चे , दूर दवा खो गयी है।
बीमारेगम ने मारा, हर मन की पीर मिटाना।
बापूजी फिर से आना…………………………

मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, पाखंडी बांट रहे हैं।
राजनीति में आकर, सिर अपराधी काट रहें हैं।
दुष्ट जमाने के दिल में, प्रेम की ज्योत जलाना।
बापूजी फिर से आना…………………………

पिशाच सभ्यता पश्चिम की, केबल टी.वी. परस रही।
मानव मूल्य अभिशाप बना, नैतिकता अब तरस रही।
ज्वाला जला कर संस्कार की, जीवन मूल्य बचाना।
बापूजी फिर से आना…………………………

नतमस्तक होता शासन, दुर्दांत भेड़िये के आगे।
चोर उचक्के और तश्कर के, लगता है दुर्दिन भागे।
कुर्बानी की फिर कहानी, आकर के सिखलाना।
बापूजी फिर से आना…………………………

ऊंच नींच के भेद भाव ने अपनत्व भाव मिटाया।
जाति धरम की जंजीरों ने, जग में जाल बिछाया।
निष्काम भाव भक्ति से, मंगलमय विश्व बनाना।
बापूजी फिर से आना…………………………

दीवाने दनुज दौलत के, खेल भाव को छोड़ गये।
दौड़ में अंधी होड़ के, फिक्सिंग से नाता जोड़ गये।
गौरव गरिमा देश प्रेम की, उनको याद दिलाना।
बापूजी फिर से आना…………………………

-साहेबलाल ‘सरल”

Language: Hindi
Tag: गीत
622 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रूपेश को मिला
रूपेश को मिला "बेस्ट राईटर ऑफ द वीक सम्मान- 2023"
रुपेश कुमार
सुरमई शाम का उजाला है
सुरमई शाम का उजाला है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
Mamta Singh Devaa
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मंहगाई, भ्रष्टाचार,
मंहगाई, भ्रष्टाचार,
*Author प्रणय प्रभात*
भरोसा जिंद‌गी का क्या, न जाने मौत कब आए (हिंदी गजल/गीतिका)
भरोसा जिंद‌गी का क्या, न जाने मौत कब आए (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
यादों की शमा जलती है,
यादों की शमा जलती है,
Pushpraj Anant
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
अब किसी से
अब किसी से
Dr fauzia Naseem shad
कसास दो उस दर्द का......
कसास दो उस दर्द का......
shabina. Naaz
नई शुरुआत
नई शुरुआत
Neeraj Agarwal
पग पग पे देने पड़ते
पग पग पे देने पड़ते
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
3272.*पूर्णिका*
3272.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"साधक के गुण"
Yogendra Chaturwedi
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
बाल कविता: नानी की बिल्ली
बाल कविता: नानी की बिल्ली
Rajesh Kumar Arjun
वक्त
वक्त
Ramswaroop Dinkar
दशावतार
दशावतार
Shashi kala vyas
फिर क्यूँ मुझे?
फिर क्यूँ मुझे?
Pratibha Pandey
"हाथों की लकीरें"
Ekta chitrangini
आसमाँ के परिंदे
आसमाँ के परिंदे
VINOD CHAUHAN
न मां पर लिखने की क्षमता है
न मां पर लिखने की क्षमता है
पूर्वार्थ
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
एक दोहा...
एक दोहा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
श्रावण सोमवार
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मातृशक्ति
मातृशक्ति
Sanjay ' शून्य'
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
"दरपन"
Dr. Kishan tandon kranti
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
क्यों ? मघुर जीवन बर्बाद कर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में.
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में.
कवि दीपक बवेजा
Loading...