Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 1 min read

बादल (बाल कविता)

बादल (बाल कविता)
…………………………………………
मैं बादल से बोला, जब तुम आसमान में जाना
बिठा मुझे भी अपने ऊपर, सब दुनिया दिखलाना

सैर करूंगा मैं दुनिया की, जग भर में जाऊॅंगा
नदी समंदर सब देशों में हो -हो कर आऊॅंगा

बादल बोला मुझ पर बैठे तो फिर पछताओगे
जल से खाली हुआ जहॉं मैं ,धड़ से गिर जाओगे
_________________________________
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा , रामपुर ,उ.प्र.
मोबाइल 99976 15451

876 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
ज़िंदगी देती है
ज़िंदगी देती है
Dr fauzia Naseem shad
वो सब खुश नसीब है
वो सब खुश नसीब है
शिव प्रताप लोधी
मेरी तुझ में जान है,
मेरी तुझ में जान है,
sushil sarna
* प्यार का जश्न *
* प्यार का जश्न *
surenderpal vaidya
चाहत
चाहत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जितना खुश होते है
जितना खुश होते है
Vishal babu (vishu)
■ देसी ग़ज़ल
■ देसी ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
LALSA
LALSA
Raju Gajbhiye
अरे ! पिछे मुडकर मत देख
अरे ! पिछे मुडकर मत देख
VINOD CHAUHAN
आदमी हैं जी
आदमी हैं जी
Neeraj Agarwal
अब कुछ चलाकिया तो समझ आने लगी है मुझको
अब कुछ चलाकिया तो समझ आने लगी है मुझको
शेखर सिंह
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
Vijay Nagar
ये भी क्या जीवन है,जिसमें श्रृंगार भी किया जाए तो किसी के ना
ये भी क्या जीवन है,जिसमें श्रृंगार भी किया जाए तो किसी के ना
Shweta Soni
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सर्वनाम के भेद
सर्वनाम के भेद
Neelam Sharma
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मित्र
मित्र
लक्ष्मी सिंह
तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।
तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
" रे, पंछी पिंजड़ा में पछताए "
Chunnu Lal Gupta
भय लगता है...
भय लगता है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
कवि दीपक बवेजा
3460🌷 *पूर्णिका* 🌷
3460🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
आईने में ...
आईने में ...
Manju Singh
" मुझमें फिर से बहार न आयेगी "
Aarti sirsat
*दुनिया में हों सभी निरोगी, हे प्रभु ऐसा वर दो (गीत)*
*दुनिया में हों सभी निरोगी, हे प्रभु ऐसा वर दो (गीत)*
Ravi Prakash
बस यूं ही
बस यूं ही
MSW Sunil SainiCENA
होली आई रे
होली आई रे
Mukesh Kumar Sonkar
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
पूर्वार्थ
"रेखा"
Dr. Kishan tandon kranti
लिख देती है कवि की कलम
लिख देती है कवि की कलम
Seema gupta,Alwar
Loading...