Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2023 · 1 min read

*बादल दोस्त हमारा (बाल कविता)*

बादल दोस्त हमारा (बाल कविता)
________________________
बड़े मजे की बात सुनो
है बादल दोस्त हमारा
(1)
जब मन मेरा किया बुलाया
छत पर मेरी आता
मुझे पीठ पर बिठा
दूर देशों की सैर कराता
बादल पर होकर सवार
मैने देखा जग सारा
(2)
जब मैं कहता, धीमे चलता
कभी दौड़ कर जाता
पर्वत-नदियाँ-शहर
पास में ले जाकर दिखलाता
रेल-जहाज-कार से बढ़ि‌या
यात्रा इसके द्वारा
(3)
एक दिवस मैं बोला
“बादल ! घर के अन्दर आओ”
वह बोला “भीगेगा सब घर
मुझको नहीं बुलाओ”
सुनकर मैने और प्यार से
बादल को पुचकारा
बड़े मजे की बात सुनो
है बादल दोस्त हमारा
_________________________
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

533 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
आप सभी को विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏
आप सभी को विश्व पर्यावरण दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏
Anamika Tiwari 'annpurna '
क्रिसमस से नये साल तक धूम
क्रिसमस से नये साल तक धूम
Neeraj Agarwal
बूँद बूँद याद
बूँद बूँद याद
Atul "Krishn"
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
Buddha Prakash
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
डॉ० रोहित कौशिक
"राज़-ए-इश्क़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
रोशनी का रखना ध्यान विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*रोटी उतनी लीजिए, थाली में श्रीमान (कुंडलिया)*
*रोटी उतनी लीजिए, थाली में श्रीमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गूॅंज
गूॅंज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
सुन लो बच्चों
सुन लो बच्चों
लक्ष्मी सिंह
मुझसे जुदा होके तू कब चैन से सोया होगा ।
मुझसे जुदा होके तू कब चैन से सोया होगा ।
Phool gufran
"समय का मूल्य"
Yogendra Chaturwedi
ek abodh balak
ek abodh balak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हाइपरटेंशन
हाइपरटेंशन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आज वक्त हूं खराब
आज वक्त हूं खराब
साहित्य गौरव
3033.*पूर्णिका*
3033.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बीजारोपण
बीजारोपण
आर एस आघात
चलो रे काका वोट देने
चलो रे काका वोट देने
gurudeenverma198
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
कवि रमेशराज
ज़िंदगी एक जाम है
ज़िंदगी एक जाम है
Shekhar Chandra Mitra
"समझदार"
Dr. Kishan tandon kranti
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सुनें   सभी   सनातनी
सुनें सभी सनातनी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
धनवान -: माँ और मिट्टी
धनवान -: माँ और मिट्टी
Surya Barman
■ तो समझ लेना-
■ तो समझ लेना-
*प्रणय प्रभात*
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
Manisha Manjari
कसक
कसक
Dipak Kumar "Girja"
वीर गाथा है वीरों की ✍️
वीर गाथा है वीरों की ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरे सजदे
मेरे सजदे
Dr fauzia Naseem shad
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...