Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Aug 2023 · 1 min read

बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।

बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
हिलमिल रहना मेरे भाई_ इतिहास तुम्हें लिखना है।।
समझो एक दूजे को दिल से गलतफहमियां दूर करो।
आने वाली पीढ़ी को भी सब कुछ तुमसे सीखना है।।
कवि राजेश व्यास “अनुनय”

1 Like · 265 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी
कभी
हिमांशु Kulshrestha
नारी जगत आधार....
नारी जगत आधार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
महादान
महादान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" सुन‌ सको तो सुनों "
Aarti sirsat
असमान शिक्षा केंद्र
असमान शिक्षा केंद्र
Sanjay ' शून्य'
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सियासी बातें
सियासी बातें
Shriyansh Gupta
निर्धनता ऐश्वर्य क्या , जैसे हैं दिन - रात (कुंडलिया)
निर्धनता ऐश्वर्य क्या , जैसे हैं दिन - रात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
आप मुझको
आप मुझको
Dr fauzia Naseem shad
तिमिर है घनेरा
तिमिर है घनेरा
Satish Srijan
सन्मति औ विवेक का कोष
सन्मति औ विवेक का कोष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
Shubham Pandey (S P)
कविता
कविता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Chinkey Jain
अपनी कमी छुपाए कै,रहे पराया देख
अपनी कमी छुपाए कै,रहे पराया देख
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
“ अपनों में सब मस्त हैं ”
DrLakshman Jha Parimal
आया बसंत
आया बसंत
Seema gupta,Alwar
कच्ची उम्र के बच्चों तुम इश्क में मत पड़ना
कच्ची उम्र के बच्चों तुम इश्क में मत पड़ना
कवि दीपक बवेजा
बुंदेली दोहा-अनमने
बुंदेली दोहा-अनमने
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
किसी की छोटी-छोटी बातों को भी,
किसी की छोटी-छोटी बातों को भी,
नेताम आर सी
वो देखो ख़त्म हुई चिड़ियों की जमायत देखो हंस जा जाके कौओं से
वो देखो ख़त्म हुई चिड़ियों की जमायत देखो हंस जा जाके कौओं से
Neelam Sharma
*चुन मुन पर अत्याचार*
*चुन मुन पर अत्याचार*
Nishant prakhar
* किधर वो गया है *
* किधर वो गया है *
surenderpal vaidya
होली
होली
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
"जीवन की परिभाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
खैर-ओ-खबर के लिए।
खैर-ओ-खबर के लिए।
Taj Mohammad
🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🍀🌺🍀🌺🍀
🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🌺🍀🍀🌺🍀🌺🍀
subhash Rahat Barelvi
■ मनुहार देश-हित में।
■ मनुहार देश-हित में।
*Author प्रणय प्रभात*
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
Paras Nath Jha
Loading...