Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Nov 2021 · 1 min read

बात तनिक ह हउवा जादा

बात तनिक ह हउवा जादा
लोग बनल ह कउवा जादा

हाल बुरा बा चुल्हानी के
रोटी से ह तउवा जादा

घर मे अन्न के दाना नइखे
गांव गांव में चउवा जादा

बाप बेचारा चुप बइठल ह
बोलत बा बचवउवा जादा

इनके सगरो चिक्कन लागी
ले ले हउवन पउवा जादा

राजनीत के खेल में आसी
देस बनल ह बउवा जादा
——————————–
सरफ़राज़ अहमद आसी यूसुफपुरी

1 Like · 1 Comment · 272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़ख़्म ही देकर जाते हो।
ज़ख़्म ही देकर जाते हो।
Taj Mohammad
हमको
हमको
Divya Mishra
जब भी अपनी दांत दिखाते
जब भी अपनी दांत दिखाते
AJAY AMITABH SUMAN
रिश्ते
रिश्ते
Harish Chandra Pande
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
इतना क्यों व्यस्त हो तुम
Shiv kumar Barman
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
Phool gufran
आप नहीं तो ज़िंदगी में भी कोई बात नहीं है
आप नहीं तो ज़िंदगी में भी कोई बात नहीं है
Yogini kajol Pathak
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
■ आज का क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
तुझे देखने को करता है मन
तुझे देखने को करता है मन
Rituraj shivem verma
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
सुख -दुख
सुख -दुख
Acharya Rama Nand Mandal
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
Shweta Soni
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
"सच का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
सनम की शिकारी नजरें...
सनम की शिकारी नजरें...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पर्यावरण प्रतिभाग
पर्यावरण प्रतिभाग
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
ऐसा क्यों होता है..?
ऐसा क्यों होता है..?
Dr Manju Saini
2758. *पूर्णिका*
2758. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संघर्ष और निर्माण
संघर्ष और निर्माण
नेताम आर सी
संवेदना की आस
संवेदना की आस
Ritu Asooja
पाती प्रभु को
पाती प्रभु को
Saraswati Bajpai
किसान
किसान
Dinesh Kumar Gangwar
करवां उसका आगे ही बढ़ता रहा।
करवां उसका आगे ही बढ़ता रहा।
सत्य कुमार प्रेमी
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
Swati
ना चाहते हुए भी रोज,वहाँ जाना पड़ता है,
ना चाहते हुए भी रोज,वहाँ जाना पड़ता है,
Suraj kushwaha
यह जनता है ,सब जानती है
यह जनता है ,सब जानती है
Bodhisatva kastooriya
प्यास बुझाने का यही एक जरिया था
प्यास बुझाने का यही एक जरिया था
Anil Mishra Prahari
मेरे हृदय ने पूछा तुम कौन हो ?
मेरे हृदय ने पूछा तुम कौन हो ?
Manju sagar
कहता है सिपाही
कहता है सिपाही
Vandna thakur
राखी रे दिन आज मूं , मांगू यही मारा बीरा
राखी रे दिन आज मूं , मांगू यही मारा बीरा
gurudeenverma198
Loading...