Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2024 · 1 min read

बाढ़

झंझावातो की बाढ़ सी आई है
रुकावटों की बहार सी आई है

अचानक सब रुक सा गया है
चलते चलते मन थक सा गया है
तकते तकते सफलता की राहें
असफलता की आह भर आई है
झंझावातो की बाढ़ सी आई है
रुकावटों की बहार सी आई है

मार्ग पथरीला अब बन गया है
दूर लक्ष्य बहुत लगने लगा है
कठिन जीवन की इस डगर में
चकमती दूर एक किरण भी आई है
झंझावातो की बाढ़ सी आई है
रुकावटों की बहार सी आई है
…………………………

Language: Hindi
3 Likes · 35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
i always ask myself to be worthy of things, of the things th
i always ask myself to be worthy of things, of the things th
पूर्वार्थ
3426⚘ *पूर्णिका* ⚘
3426⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
"फर्क बहुत गहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
स्वयंभू
स्वयंभू
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आरजू
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
धैर्य.....….....सब्र
धैर्य.....….....सब्र
Neeraj Agarwal
मेरी फितरत ही बुरी है
मेरी फितरत ही बुरी है
VINOD CHAUHAN
शब्दों का गुल्लक
शब्दों का गुल्लक
Amit Pathak
मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती
मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती
Vishal babu (vishu)
वोट की राजनीति
वोट की राजनीति
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
भारत की है शान तिरंगा
भारत की है शान तिरंगा
surenderpal vaidya
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
" *लम्हों में सिमटी जिंदगी* ""
सुनीलानंद महंत
■ दिल
■ दिल "पिपरमेंट" सा कोल्ड है भाई साहब! अभी तक...।😊
*Author प्रणय प्रभात*
इतना तो अधिकार हो
इतना तो अधिकार हो
Dr fauzia Naseem shad
मतलब छुट्टी का हुआ, समझो है रविवार( कुंडलिया )
मतलब छुट्टी का हुआ, समझो है रविवार( कुंडलिया )
Ravi Prakash
प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,
प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,
Anamika Tiwari 'annpurna '
नीला अम्बर नील सरोवर
नीला अम्बर नील सरोवर
डॉ. शिव लहरी
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
gurudeenverma198
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
इश्क अमीरों का!
इश्क अमीरों का!
Sanjay ' शून्य'
जीवन की धूल ..
जीवन की धूल ..
Shubham Pandey (S P)
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Mulla Adam Ali
जेसे दूसरों को खुशी बांटने से खुशी मिलती है
जेसे दूसरों को खुशी बांटने से खुशी मिलती है
shabina. Naaz
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ruby kumari
मैं अपने आप को समझा न पाया
मैं अपने आप को समझा न पाया
Manoj Mahato
राम कहने से तर जाएगा
राम कहने से तर जाएगा
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मत रो मां
मत रो मां
Shekhar Chandra Mitra
का कहीं रहन अपना सास के
का कहीं रहन अपना सास के
नूरफातिमा खातून नूरी
Loading...