Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

बाज़ार से कोई भी चीज़

बाज़ार से कोई भी चीज़
किसी बाहर वाले से
मंगवाने में ही फायदा है।
बचे पैसे लौटाते तो हैं
कम से कम…।।

👌प्रणय प्रभात👌

1 Like · 136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी से भी
किसी से भी
Dr fauzia Naseem shad
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
आदमी के हालात कहां किसी के बस में होते हैं ।
sushil sarna
3144.*पूर्णिका*
3144.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शहर के लोग
शहर के लोग
Madhuyanka Raj
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
घनाक्षरी गीत...
घनाक्षरी गीत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
*.....उन्मुक्त जीवन......
*.....उन्मुक्त जीवन......
Naushaba Suriya
यह हिन्दुस्तान हमारा है
यह हिन्दुस्तान हमारा है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
गए थे दिल हल्का करने,
गए थे दिल हल्का करने,
ओसमणी साहू 'ओश'
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
Radhakishan R. Mundhra
फूलों की ख़ुशबू ही,
फूलों की ख़ुशबू ही,
Vishal babu (vishu)
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
यदि आप अपनी असफलता से संतुष्ट हैं
Paras Nath Jha
"एजेंट" को "अभिकर्ता" इसलिए, कहा जाने लगा है, क्योंकि "दलाल"
*Author प्रणय प्रभात*
धरती करें पुकार
धरती करें पुकार
नूरफातिमा खातून नूरी
भाव गणित
भाव गणित
Shyam Sundar Subramanian
*जिस सभा में जाति पलती, उस सभा को छोड़ दो (मुक्तक)*
*जिस सभा में जाति पलती, उस सभा को छोड़ दो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
तुम न आये मगर..
तुम न आये मगर..
लक्ष्मी सिंह
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
वोट डालने जाना
वोट डालने जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
💐प्रेम कौतुक-535💐
💐प्रेम कौतुक-535💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"फुटपाथ"
Dr. Kishan tandon kranti
पराक्रम दिवस
पराक्रम दिवस
Bodhisatva kastooriya
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
** पहचान से पहले **
** पहचान से पहले **
surenderpal vaidya
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वह पढ़ता या पढ़ती है जब
वह पढ़ता या पढ़ती है जब
gurudeenverma198
उदास हूं मैं आज...?
उदास हूं मैं आज...?
Sonit Parjapati
जिन्दा हो तो,
जिन्दा हो तो,
नेताम आर सी
Loading...