Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 25, 2016 · 1 min read

बाँध लेता प्यार

बाँध लेता प्यार सबको देश से
द्वेष से तो जंग का आसार है

लांघ सीमा भंग करते शांति जो
नफरतों से वो जले अंगार है

होड़ ताकत को दिखाने की मची
इसलिये ही पास सब हथियार है

सोच तुझको जब खुदा ने क्यों गढ़ा
पास उसके खास ही औजार है

जिन्दगी तेरी महक ऐसे गयी
जो तराशी तू किसी किरदार ने

शाम होते लौट घर को आ चला
बस यहाँ पर साथ ही में सार है

हे मधुप बहला मुझे तू रोज यूँ
इस कली पर जो मुहब्बत हार है

70 Likes · 201 Views
You may also like:
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गीत
शेख़ जाफ़र खान
आतुरता
अंजनीत निज्जर
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बेरूखी
Anamika Singh
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
Loading...