Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Oct 2023 · 1 min read

बहू बनी बेटी

बहू बनी बेटी

“बेटा, यदि सारा खाना लग गया हो, तो यहां तुम भी अपनी प्लेट लगा लो।” रमा बोली।
“पर मां जी, मैं यूं… आप लोगों के साथ…?” हिचकते हुए सुषमा बोली।
“क्यों ? क्या हो गया ? क्या मायके में अपने मम्मी-पापा और भैया के साथ खाना खाने नहीं बैठती थी ?” रमा ने आश्चर्य से पूछा।
“जी… बैठती तो थी।” सुषमा बोली।
“तो फिर यहां क्या दिक्कत है बेटा ? इस परिवार की परंपरा है कि हम दिन में भले ही अलग-अलग समय पर नास्ता और खाना खाएं, पर रात का खाना सभी एक साथ बैठकर खाते हैं। मैं भी शादी के बाद जब यहां आई, तो अपने सास-ससुर और जेठ-जेठानी और बच्चों के साथ ही डिनर करती थी।” रमा बोली। सासु माँ ने प्यार से समझाते हुए कहा।
“ठीक है माँ जी। मैं अभी आई पानी का जग लेकर।” सुषमा मुस्कुराते हुए बोली ।
सुषमा सोच रही थी कि कुछ किताबों में पढ़ और सहेलियों से सुनकर वह सास-ससुर के बारे में किस प्रकार पूर्वाग्रह से ग्रसित हो चिंतित थी।
उसने नजर उठाकर देखा, तो सास-ससुर में उसे अपने मम्मी-पापा की ही छबि नजर आई ।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

1 Like · 102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ-बाप
माँ-बाप
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"गर्दिशों ने कहा, गर्दिशों से सुना।
*Author प्रणय प्रभात*
कुपमंडुक
कुपमंडुक
Rajeev Dutta
रिश्तों का एहसास
रिश्तों का एहसास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Meera Singh
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Santosh Shrivastava
मैं नारी हूँ
मैं नारी हूँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
रससिद्धान्त मूलतः अर्थसिद्धान्त पर आधारित
रससिद्धान्त मूलतः अर्थसिद्धान्त पर आधारित
कवि रमेशराज
सुख - डगर
सुख - डगर
Sandeep Pande
: काश कोई प्यार को समझ पाता
: काश कोई प्यार को समझ पाता
shabina. Naaz
Dr अरूण कुमार शास्त्री
Dr अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुलभुत प्रश्न
मुलभुत प्रश्न
Raju Gajbhiye
दोहा पंचक. . . नारी
दोहा पंचक. . . नारी
sushil sarna
......तु कोन है मेरे लिए....
......तु कोन है मेरे लिए....
Naushaba Suriya
2746. *पूर्णिका*
2746. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"मौत से क्या डरना "
Yogendra Chaturwedi
ओ माँ मेरी लाज रखो
ओ माँ मेरी लाज रखो
Basant Bhagawan Roy
राह कठिन है राम महल की,
राह कठिन है राम महल की,
Satish Srijan
जे सतावेला अपना माई-बाप के
जे सतावेला अपना माई-बाप के
Shekhar Chandra Mitra
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
मन की संवेदना
मन की संवेदना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
किसने यहाँ
किसने यहाँ
Dr fauzia Naseem shad
*फिर से जागे अग्रसेन का, अग्रोहा का सपना (मुक्तक)*
*फिर से जागे अग्रसेन का, अग्रोहा का सपना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आजादी का दीवाना था
आजादी का दीवाना था
Vishnu Prasad 'panchotiya'
शराब हो या इश्क़ हो बहकाना काम है
शराब हो या इश्क़ हो बहकाना काम है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जा रहा हूँ बहुत दूर मैं तुमसे
जा रहा हूँ बहुत दूर मैं तुमसे
gurudeenverma198
घमण्ड बता देता है पैसा कितना है
घमण्ड बता देता है पैसा कितना है
Ranjeet kumar patre
हरितालिका तीज
हरितालिका तीज
Mukesh Kumar Sonkar
*
*"गुरू पूर्णिमा"*
Shashi kala vyas
समसामायिक दोहे
समसामायिक दोहे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...