Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2016 · 1 min read

बहुत खुद्दादार है वो….

बहुत खुद्दार है घुटनों के बल चलकर नहीं आता.
वो लिखता है बहुत अच्छा मगर छपकर नहीं आता.

मुहब्बत खलवते-दिल में उतर जाती है चुपके से,
ये ऐसा मर्ज़ है यारो कभी कहकर नहीं आता.

रज़ा उसकी बहाती है तो पत्तों को किनारा है,
मगर खुद तैरता है आदमी बहकर नहीं आता.

जो उसके दिल में आता है वही कहता है महफ़िल में,
कभी लिखकर नहीं लाता,कभी पढ़कर नहीं आता.

बड़े लोगों से मिलता है बहुत मशहूर दुनियां में,
वो ऐसा शख्स के इलज़ाम भी उस पर नहीं आता.

फकत काबिल हुआ तो क्या बहुत काफी नहीं इतना ,
सिफारिश के लिये वो क्यों उसे मिलकर नहीं आता.

……….सुदेश कुमार मेहर.

4 Comments · 837 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ जब भी दुआएं देती है
माँ जब भी दुआएं देती है
Bhupendra Rawat
आवो पधारो घर मेरे गणपति
आवो पधारो घर मेरे गणपति
gurudeenverma198
भीगी पलकें...
भीगी पलकें...
Naushaba Suriya
गिलहरी
गिलहरी
Satish Srijan
“दुमका संस्मरण 3” ट्रांसपोर्ट सेवा (1965)
“दुमका संस्मरण 3” ट्रांसपोर्ट सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
गैर का होकर जिया
गैर का होकर जिया
Dr. Sunita Singh
काश लौट कर आए वो पुराने जमाने का समय ,
काश लौट कर आए वो पुराने जमाने का समय ,
Shashi kala vyas
' मौन इक सँवाद '
' मौन इक सँवाद '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आहत हो कर बापू बोले
आहत हो कर बापू बोले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेटियाँ
बेटियाँ
Mamta Rani
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
सोने को जमीं,ओढ़ने को आसमान रखिए
Anil Mishra Prahari
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
प्रेम
प्रेम
Rashmi Sanjay
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आँखों की दुनिया
आँखों की दुनिया
Sidhartha Mishra
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
व्यस्तता
व्यस्तता
Surya Barman
हम बेजान हैं।
हम बेजान हैं।
Taj Mohammad
शौक-ए-आदम
शौक-ए-आदम
AJAY AMITABH SUMAN
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
Dr.Khedu Bharti
एक एहसास
एक एहसास
Dr fauzia Naseem shad
बिताया कीजिए कुछ वक्त
बिताया कीजिए कुछ वक्त
पूर्वार्थ
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
छीना झपटी के इस युग में,अपना स्तर स्वयं निर्धारित करें और आत
विमला महरिया मौज
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Gulab ke hasin khab bunne wali
Gulab ke hasin khab bunne wali
Sakshi Tripathi
समय की गांठें
समय की गांठें
Shekhar Chandra Mitra
ठोकरें कितनी खाई है राहों में कभी मत पूछना
ठोकरें कितनी खाई है राहों में कभी मत पूछना
कवि दीपक बवेजा
गिरें पत्तों की परवाह कौन करें
गिरें पत्तों की परवाह कौन करें
Keshav kishor Kumar
क्या ढूढे मनुवा इस बहते नीर में
क्या ढूढे मनुवा इस बहते नीर में
rekha mohan
डूबें अक्सर जो करें,
डूबें अक्सर जो करें,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...