Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 3, 2016 · 1 min read

नहीं कमजोर नारी

नहीं कमजोर नारी वो दिल से सोचती है
इन्हीं साँसों से अपनी ये जीवन रोपती है

नहाती दर्द में है किसी से पर न कहती
मिले हर एक गम को सदा चुपचाप सहती
भरे मुस्कान मुख पर जगत में डोलती है
नहीं कमजोर नारी वो दिल से सोचती है

बनाती घर को घर ये खिलाती हैं बहारें
दीवारों में न आने कभी देती दरारें
बनाकर प्रीत बंधन ये रिश्ते जोड़ती है
नहीं कमजोर नारी वो दिल से सोचती है

तभी तो नाम इसका समर्पण त्याग दूजा
करो सम्मान इसका यही सच्ची है पूजा
यही भारत की माटी भी सबसे बोलती है
नहीं कमजोर नारी वो दिल से सोचती है

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद(उ प्र)

248 Views
You may also like:
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
सुन्दर घर
Buddha Prakash
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
लक्ष्मी सिंह
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बाबू जी
Anoop Sonsi
बुआ आई
राजेश 'ललित'
Loading...