Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 13, 2016 · 1 min read

बहन के देहान्त पर अपने बेटे की तरफ़ से

मुझे याद आती है अक्सर तुम्हारी
मुझे याद आती है अक्सर तुम्हारी

थी छोटी मगर घर सबसे बडी थीं
कि मेरे लिये तुम सभी से सडी थीं
तुम्हारे लिये चाँद था ईद का मैं
मेरे वास्ते तुम ही दर पर खडी थीं
पुकारुंगा किसको मैं आवाज़ दूँगा
न पकडूंगा उंगली मैं आकर तुम्हारी
मुझे याद आती है अक्सर तुम्हारी

न माँ आप थी मैं भी बेटा नहीं था
कलेजे का मैं कोई टुकडा नहीं था
मगर मां से बढकर के चाहा था तुमने
मुझे छोड दोगी ये सोचा नहीं था
मुझे छोड कर तुम कहां जा बसी हो
जगह तो नहीं थी वो ऊपर तुम्हारी
मुझे याद आती है अक्सर तुम्हारी

मेरे नाज़ सारे उठायेंगे लेकिन
मुझे लाल कहकर बुलायेंगे लेकिन
कि मैं काम सबके बनाकर चलूंगा
सभी हक़ भी मुझपर जतायेंगे लेकिन
तुम्हारी तरह कोई हरगिज़ न होगा
न आयेगा कोई बराबर तुम्हारी

मैं छोटा कल अब बडा हो गया हूँ
मैं पैरों पे अपने खडा हो गया हूँ
मगर तुम नहीं हो तो कुछ भी नहीं है
तुम्हारे बिना मैं पडा हो गया हूँ
मुझे प्यार कोई भी करता नहीं है
जरुरत है मुझको बेज़र तुम्हारी

106 Views
You may also like:
आज नहीं तो कल होगा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
अग्रवाल समाज और स्वाधीनता संग्राम( 1857 1947)
Ravi Prakash
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️आत्मपरीक्षण✍️
"अशांत" शेखर
तेरा जां निसार।
Taj Mohammad
फैल गया काजल
Rashmi Sanjay
कर लो कोशिशें।
Taj Mohammad
मन्नू जी की स्मृति में दोहे (श्रद्धा सुमन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️जंग टल जाये तो बेहतर है✍️
"अशांत" शेखर
आस्माँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
रावण का मकसद, मेरी कल्पना
अनामिका सिंह
पैसे की महिमा
Ram Krishan Rastogi
ఎందుకు ఈ లోకం పరుగెడుతుంది.
Vijaykumar Gundal
कुंडलियां छंद (7)आया मौसम
Pakhi Jain
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
My dear Mother.
Taj Mohammad
मेरे पापा...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
हिरण
Buddha Prakash
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
शादी का उत्सव
AMRESH KUMAR VERMA
पिता का मर्तबा।
Taj Mohammad
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
कठपुतली न बनना हमें
AMRESH KUMAR VERMA
कल भी होंगे हम तो अकेले
gurudeenverma198
मुकद्दर ने
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
THANKS
Vikas Sharma'Shivaaya'
कभी कभी।
Taj Mohammad
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
Loading...