Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

बस हौसला करके चलना

दूर-दराज क्षितिज में ,
मानो छिपते हुए सूर्य के।
आगोश में लुप्त हो जाना ,
कतार मय उडते पंछियों का ।।

दाना – दुनका चुगकर रैन बसेरे को ,
अपने घोंसले मे परतना ।
आनद मय सपनो की ,
उडान लिये उडते पंछी ।।

चहक- चहक कर आनंदित कर रहे ,
हवाओ को पर घर है इनका ठिकाना।
सोचता हूँ इन्सान हूँ ,
मै विराने में चला तो ।।

क्या छोड दूं मंजिल डगर को ,
सिकवा – शिकायते जिन्दगी से
पर क्या दगा करु मै जमीर से,
आस है बस आस है ।

यू नही छोडू पथ चाहे ,
पथरीला कंकरीला काँटो भरा ।
तन-मन से जोर-आजमाईश कर ,
प्राप्त कर मंजिल।।

बस हौसला करके चलना।

सतपाल चौहान।

Language: Hindi
2 Likes · 71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from SATPAL CHAUHAN
View all
You may also like:
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
श्री नेता चालीसा (एक व्यंग्य बाण)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जागरूक हो हर इंसान
जागरूक हो हर इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2791. *पूर्णिका*
2791. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
आरंभ
आरंभ
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
💐प्रेम कौतुक-561💐
💐प्रेम कौतुक-561💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
कवि रमेशराज
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
#गौरवमयी_प्रसंग
#गौरवमयी_प्रसंग
*Author प्रणय प्रभात*
किस्सा मशहूर है जमाने में मेरा
किस्सा मशहूर है जमाने में मेरा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"यथार्थ प्रेम"
Dr. Kishan tandon kranti
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
राममय दोहे
राममय दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नन्हीं - सी प्यारी गौरैया।
नन्हीं - सी प्यारी गौरैया।
Anil Mishra Prahari
वे वजह हम ने तमीज सीखी .
वे वजह हम ने तमीज सीखी .
Sandeep Mishra
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
shabina. Naaz
बात क्या है कुछ बताओ।
बात क्या है कुछ बताओ।
सत्य कुमार प्रेमी
*गोरे-गोरे हाथ जब, मलने लगे गुलाल (कुंडलिया)*
*गोरे-गोरे हाथ जब, मलने लगे गुलाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
The_dk_poetry
कह न पाई सारी रात सोचती रही
कह न पाई सारी रात सोचती रही
Ram Krishan Rastogi
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
ਲਿਖ ਲਿਖ ਕੇ ਮੇਰਾ ਨਾਮ
ਲਿਖ ਲਿਖ ਕੇ ਮੇਰਾ ਨਾਮ
Surinder blackpen
*बाल गीत (मेरा प्यारा मीत )*
*बाल गीत (मेरा प्यारा मीत )*
Rituraj shivem verma
এটি একটি সত্য
এটি একটি সত্য
Otteri Selvakumar
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
Nasib Sabharwal
पुलिस की ट्रेनिंग
पुलिस की ट्रेनिंग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
कुछ पैसे बचा कर रखे हैं मैंने,
Vishal babu (vishu)
Loading...