Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

बस भगवान नहीं होता,

बस भगवान नहीं होता,
और एक बाप क्या नहीं होता

©️ डॉ. शशांक शर्मा “रईस”

43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एहसान
एहसान
Paras Nath Jha
“फेसबूक का व्यक्तित्व”
“फेसबूक का व्यक्तित्व”
DrLakshman Jha Parimal
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
आतंकवाद सारी हदें पार कर गया है
आतंकवाद सारी हदें पार कर गया है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
महादान
महादान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नन्ही मिष्ठी
नन्ही मिष्ठी
Manu Vashistha
दोहा
दोहा
sushil sarna
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
Suryakant Dwivedi
एक गुजारिश तुझसे है
एक गुजारिश तुझसे है
Buddha Prakash
जुनून
जुनून
DR ARUN KUMAR SHASTRI
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ये जो उच्च पद के अधिकारी है,
ये जो उच्च पद के अधिकारी है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
1B_ वक्त की ही बात है
1B_ वक्त की ही बात है
Kshma Urmila
मुकेश का दीवाने
मुकेश का दीवाने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
3246.*पूर्णिका*
3246.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खाक मुझको भी होना है
खाक मुझको भी होना है
VINOD CHAUHAN
........,
........,
शेखर सिंह
सोनेवानी के घनघोर जंगल
सोनेवानी के घनघोर जंगल
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
Taj Mohammad
कमियाबी क्या है
कमियाबी क्या है
पूर्वार्थ
రామయ్య రామయ్య
రామయ్య రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
दो पंक्तियां
दो पंक्तियां
Vivek saswat Shukla
"अपेक्षा"
Yogendra Chaturwedi
■न्यू थ्योरी■
■न्यू थ्योरी■
*प्रणय प्रभात*
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
हम किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले
हम किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले
himanshu mittra
कई महीने साल गुजर जाते आँखों मे नींद नही होती,
कई महीने साल गुजर जाते आँखों मे नींद नही होती,
Shubham Anand Manmeet
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
नेताजी सुभाषचंद्र बोस
ऋचा पाठक पंत
अगर मरने के बाद भी जीना चाहो,
अगर मरने के बाद भी जीना चाहो,
Ranjeet kumar patre
Loading...