Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2023 · 1 min read

बस चलता गया मैं

न पैरों में जूते उदर भी था खाली,
मैं निकला अकेला थे हालात माली।
जहाँ से चला था विरानी डगर थी,
भले राह समतल कटीली मगर थी।

सभी जेब छूछी इरादा जवां था,
मैं खुद कारवां खुद का एक हमनवां था।
नहीं था पता दूर है कितनी जाना,
कहाँ होगी मंजिल हो कैसा ठिकाना।

कभी तो उगा कभी ढल सा गया मैं,
नहीं हारी हिम्मत बस चलता गया मैं।
न ख्वाहिश बनूँ कई अरबों का मालिक।
बस उतना ही हो जिससे बिसरे न खालिक।

अगन में तपा करके कुंदन बनाया,
सुबासन भरा शीतल चंदन बनाया।
कदम दर कदम पर बहुत है निहोरा,
रंगा तूने रचके नहीं रखा कोरा।

शुकर है शुकर है शुकर है तुम्हारा,
सब मालिक कृपा है नहीं कुछ हमारा।
मेहर आखिरी मेरे दाता ये करना।
चलूँ जब जगत से मिले तेरी शरना।

सतीश सृजन, लखनऊ

Language: Hindi
251 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
KRISHANPRIYA
KRISHANPRIYA
Gunjan Sharma
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
Umender kumar
जनतंत्र
जनतंत्र
अखिलेश 'अखिल'
जब से हमारी उनसे मुलाकात हो गई
जब से हमारी उनसे मुलाकात हो गई
Dr Archana Gupta
बट विपट पीपल की छांव 🐒🦒🐿️🦫
बट विपट पीपल की छांव 🐒🦒🐿️🦫
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
हरवंश हृदय
सच
सच
Sanjeev Kumar mishra
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
सागर
सागर
नूरफातिमा खातून नूरी
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
Sukoon
सर्वप्रिय श्री अख्तर अली खाँ
सर्वप्रिय श्री अख्तर अली खाँ
Ravi Prakash
नकारात्मकता फैलानी हो तो
नकारात्मकता फैलानी हो तो
*प्रणय प्रभात*
ज़िम्मेदार कौन है??
ज़िम्मेदार कौन है??
Sonam Puneet Dubey
वो मुझसे आज भी नाराज है,
वो मुझसे आज भी नाराज है,
शेखर सिंह
*अज्ञानी की कलम शूल_पर_गीत
*अज्ञानी की कलम शूल_पर_गीत
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
चलो...
चलो...
Srishty Bansal
नेताजी का पर्यावरण दिवस आयोजन
नेताजी का पर्यावरण दिवस आयोजन
Dr Mukesh 'Aseemit'
* जिन्दगी *
* जिन्दगी *
surenderpal vaidya
धरा स्वर्ण होइ जाय
धरा स्वर्ण होइ जाय
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
संकल्प
संकल्प
Bodhisatva kastooriya
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
दुखता बहुत है, जब कोई छोड़ के जाता है
Kumar lalit
अपने होने का
अपने होने का
Dr fauzia Naseem shad
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
ruby kumari
3000.*पूर्णिका*
3000.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इस दुनिया में दोस्त हीं एक ऐसा विकल्प है जिसका कोई विकल्प नह
इस दुनिया में दोस्त हीं एक ऐसा विकल्प है जिसका कोई विकल्प नह
Shweta Soni
गुस्सा
गुस्सा
Sûrëkhâ
नालंदा जब  से  जली, छूट  गयी  सब आस।
नालंदा जब से जली, छूट गयी सब आस।
गुमनाम 'बाबा'
That poem
That poem
Bidyadhar Mantry
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
Sahil Ahmad
हाइकु haiku
हाइकु haiku
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...