Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

बस गया भूतों का डेरा

जब से कलयुग ने घेरा,
डिजिटल का हुआ सवेरा,
मोबाइल ने रुख मोड़ा,
बस गया भूतों का डेरा।

तारे चमकते थे आसमान में,
चमचमाहट नजर आती आधी रात में,
रात्रि भर थकते नहीं करते दीदार बस,
जागते ऐसे बस गया भूतों का डेरा।

ख्याल ना अपना ना ही औरों का,
नेटवर्क और मोबाइल की नयी दुनिया,
आकर्षित करता नये युग को, भूल जाते सदुपयोग,
जागते देर रात ऐसे बस गया भूतों का डेरा।

अब डरते होंगे भूत प्रेत मोबाइल की रोशनी से,
सोचते होंगे, कौन से नये बंधु धरा में आकर हैं बसे,
टस से मस तक नहीं होते जो भागते थे रात को डर कर,
जुगुनू की तरह चमकते ऐसे बस गया भूतों का डेरा।

रचनाकार
बुध्द प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

2 Likes · 342 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
बढ़े चलो तुम हिम्मत करके, मत देना तुम पथ को छोड़ l
बढ़े चलो तुम हिम्मत करके, मत देना तुम पथ को छोड़ l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
दिल के जख्म
दिल के जख्म
Gurdeep Saggu
सबूत ना बचे कुछ
सबूत ना बचे कुछ
Dr. Kishan tandon kranti
*पानी केरा बुदबुदा*
*पानी केरा बुदबुदा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बात मेरे मन की
बात मेरे मन की
Sûrëkhâ
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
Shubham Pandey (S P)
ज़िंदगी की कँटीली राहों पर
ज़िंदगी की कँटीली राहों पर
Shweta Soni
*पद के पीछे लोग 【कुंडलिया】*
*पद के पीछे लोग 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
2737. *पूर्णिका*
2737. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोस्ती का मर्म (कविता)
दोस्ती का मर्म (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
शब्द -शब्द था बोलता,
शब्द -शब्द था बोलता,
sushil sarna
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लोग आसमां की तरफ देखते हैं
लोग आसमां की तरफ देखते हैं
VINOD CHAUHAN
उतार देती हैं
उतार देती हैं
Dr fauzia Naseem shad
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
The_dk_poetry
"चाहत " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
संकल्प
संकल्प
Naushaba Suriya
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
Shekhar Chandra Mitra
पिता पर एक गजल लिखने का प्रयास
पिता पर एक गजल लिखने का प्रयास
Ram Krishan Rastogi
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
मेरी प्यारी अभिसारी हिंदी......!
मेरी प्यारी अभिसारी हिंदी......!
Neelam Sharma
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
शेखर सिंह
है गरीबी खुद ही धोखा और गरीब भी, बदल सके तो वह शहर जाता है।
है गरीबी खुद ही धोखा और गरीब भी, बदल सके तो वह शहर जाता है।
Sanjay ' शून्य'
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
shabina. Naaz
आए हैं फिर चुनाव कहो राम राम जी।
आए हैं फिर चुनाव कहो राम राम जी।
सत्य कुमार प्रेमी
👍👍
👍👍
*प्रणय प्रभात*
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
शिक्षक और शिक्षा के साथ,
Neeraj Agarwal
सोने के पिंजरे से कहीं लाख़ बेहतर,
सोने के पिंजरे से कहीं लाख़ बेहतर,
Monika Verma
Who am I?
Who am I?
R. H. SRIDEVI
Loading...