Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2016 · 1 min read

बसंत है आया | अभिषेक कुमार अम्बर

कू-कू करती कोयल कहती
सर सर करती पवन है बहती।
फूलों पर भँवरें मंडराते
सब मिल गीत ख़ुशी के गाते।
सबको ही ये मौसम भाया
देखो देखो बसंत है आया।

पेड़ों पर बैरी पक आई
खेतों में फसले लहराई।
लदी हुईं फूलों से डाली
देख तितलियाँ हुई मतवाली।
भँवरों का भी मन मचलाया
देखो देखो बसंत है आया।

पड़े बाग़ बासंती झूले
बच्चे फिरते फूले फूले।
झूम झूमकर झूला झूलें
साँझ ढली घर जाना भूले।
सरपट सरपट दौड़े सारे
वायु का भी वेग लजाया।
देखो देखो बसंत है आया।

© अभिषेक कुमार अम्बर

Language: Hindi
Tag: कविता
270 Views
You may also like:
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
" हालात ए इश्क़ " ( चंद अश'आर )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आई सावन की बहार,खुल कर मिला करो
Ram Krishan Rastogi
गणपति
विशाल शुक्ल
वफ़ा मानते रहे
Dr. Sunita Singh
ਆਹਟ
विनोद सिल्ला
आमाल।
Taj Mohammad
समारंभ
Utkarsh Dubey “Kokil”
#नाव
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
प्रेम कथा
Shiva Awasthi
बेटी
Kanchan sarda Malu
समाजसेवा
Kanchan Khanna
कितने आंखों के ख़्वाब नोचें हैं
Dr fauzia Naseem shad
गीत - मैं अकेला दीप हूं
Shivkumar Bilagrami
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
Dr Archana Gupta
💐दुधई💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी पहली शिक्षिका मेरी माँ
Gouri tiwari
" महिलाओं वाला सावन "
Dr Meenu Poonia
सफर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
✍️ देखते रह गये..!✍️
'अशांत' शेखर
आज काल के नेता और उनके बेटा
Harsh Richhariya
प्रतिष्ठित मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
*मनमोहन अब तो आ जाओ (भक्ति गीतिका)*
Ravi Prakash
कोशिश
Anamika Singh
तब से भागा कोलेस्ट्रल
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
खूब परोसे प्यार, खिलाये रोटी माँ ही
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
साजिश अपने ही रचते हैं
gurudeenverma198
संघर्ष पथ
Aditya Prakash
Loading...