Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2017 · 2 min read

बसंत बहार — डी. के. निवातिया

बसंत बहार

बागो में कलियों पे बहार जब आने लगे, खेत-खलिहानों में फसले लहलाने लगे !
गुलाबी धूप पर भी निखार जब आने लगे, समझ लेना के बसंत बहार आ गयी !!

भोर में रवि की किरण पे आये लाली
कोयल कूक रही हो अमवा की डाली
पेड़ो पर नई नई कोपले निकलने लगे
और आँगन में भी गोरैया चहकने लगे
समझ लेना के बसंत बहार आ गयी !!

बागो में कलियों पे बहार जब आने लगे, खेत-खलिहानों में फसले लहलाने लगे !
गुलाबी धूप पर भी निखार जब आने लगे, समझ लेना के बसंत बहार आ गयी !!

गुलाब, गेंदा, सूरजमुखी, सरसों आदि के फूल
तितलियाँ और भँवरे उनपर मंडराये झूम झूम,
फूलों की सुगंध से मादकता का भान होने लगे
मनमोहक हो फिजा का आलम गुदगुदाने लगे
समझ लेना के बसंत बहार आ गयी !!

बागो में कलियों पे बहार जब आने लगे, खेत-खलिहानों में फसले लहलाने लगे !
गुलाबी धूप पर भी निखार जब आने लगे, समझ लेना के बसंत बहार आ गयी !!

पेडों से पुरानी पत्तियाँ झड़ने लगती हैं
उन से कोमल पत्तियों उगने लगती हैं
उल्लास -उमंग का आभास होने लगे
बसंत दूत कामदेव भ्रमण करने लगे
समझ लेना के बसंत बहार आ गयी !!

बागो में कलियों पे बहार जब आने लगे, खेत-खलिहानों में फसले लहलाने लगे !
गुलाबी धूप पर भी निखार जब आने लगे, समझ लेना के बसंत बहार आ गयी !!

ब्रज धाम में गोपियाँ नृत्य करने लगे
कृष्ण प्रेम डूब राधा रूप वो धरने लगे
देखकर ये विहंगम दृश्य राधे – श्याम
स्वर्ग से जमीं की और पग धरने लगे
समझ लेना के बसंत बहार आ गयी !!

बागो में कलियों पे बहार जब आने लगे, खेत-खलिहानों में फसले लहलाने लगे !
गुलाबी धूप पर भी निखार जब आने लगे, समझ लेना के बसंत बहार आ गयी !!

!

(डी. के. निवातिया )

Language: Hindi
967 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"लोकतंत्र के मंदिर" में
*Author प्रणय प्रभात*
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
SHAILESH MOHAN
प्रतिध्वनि
प्रतिध्वनि
पूर्वार्थ
मन के ढलुवा पथ पर अनगिन
मन के ढलुवा पथ पर अनगिन
Rashmi Sanjay
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
कवि रमेशराज
सूरज नमी निचोड़े / (नवगीत)
सूरज नमी निचोड़े / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नमन माँ गंग !पावन
नमन माँ गंग !पावन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
आसां  है  चाहना  पाना मुमकिन नहीं !
आसां है चाहना पाना मुमकिन नहीं !
Sushmita Singh
दुआ
दुआ
Dr Parveen Thakur
"मोमबत्ती"
Dr. Kishan tandon kranti
तन पर हल्की  सी धुल लग जाए,
तन पर हल्की सी धुल लग जाए,
Shutisha Rajput
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Sangeeta Beniwal
होता है सबसे बड़ा, सदा नियति का खेल (कुंडलिया)
होता है सबसे बड़ा, सदा नियति का खेल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
माँ
माँ
The_dk_poetry
जागेगा अवाम
जागेगा अवाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कुछ इस तरह से खेला
कुछ इस तरह से खेला
Dheerja Sharma
निकलो…
निकलो…
Rekha Drolia
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
सुन्दरता की कमी को अच्छा स्वभाव पूरा कर सकता है,
शेखर सिंह
वृक्ष लगाओ,
वृक्ष लगाओ,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मन की प्रीत
मन की प्रीत
भरत कुमार सोलंकी
गुरु मेरा मान अभिमान है
गुरु मेरा मान अभिमान है
Harminder Kaur
आपको याद भी
आपको याद भी
Dr fauzia Naseem shad
“ जियो और जीने दो ”
“ जियो और जीने दो ”
DrLakshman Jha Parimal
देना और पाना
देना और पाना
Sandeep Pande
छिपकली
छिपकली
Dr Archana Gupta
Lucky Number Seven!
Lucky Number Seven!
Sridevi Sridhar
बाबा साहब की अंतरात्मा
बाबा साहब की अंतरात्मा
जय लगन कुमार हैप्पी
पूर्णिमा का चाँद
पूर्णिमा का चाँद
Neeraj Agarwal
2456.पूर्णिका
2456.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...